COLLECTOR BANNE KE LIYE SUBJECT KONSE LENE CHHAIYE कलेक्टर बनने के लिए कौन सा सब्जेक्ट लेना चाहिए | #Storiesviewforall

COLLECTOR BANNE KE LIYE SUBJECT KONSE LENE CHHAIYE कलेक्टर बनने के लिए कौन सा सब्जेक्ट लेना चाहिए | #Storiesviewforall

कलेक्टर बनने के लिए कौन सा सब्जेक्ट लेना चाहिए (collector banne ke liye kaun sa subject Lena Chahiye) आज के इस लेख के माध्यम से हम जाने वाले हैं और साथ ही कलेक्टर से संबंधित कई सारे सवालों का जवाब भी आज हम जानेंगे।

कलेक्टर जिले का सबसे बड़ा पद होता है अर्थात जिले की देखरेख एक कलेक्टर ही करते हैं और कलेक्टर का पद उस क्षेत्र का सबसे पावरफुल पद होता है।

कलेक्टर का बहुत काम होता है क्षेत्र में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए तथा क्षेत्र को सुचारू रूप से चलाने के लिए कलेक्टर कोई भी कदम शक्ति से उठा सकते हैं।

नीचे जितने भी अधिकारी काम करते हैं जैसे तहसीलदार या कोई भी पुलिस ऑफिसर उनका देखरेख एक कलेक्टर ही करते हैं तथा उन पर किसी भी प्रकार का कार्यवाही एक कलेक्टर कर सकते हैं।

किसी ऑफिसर का ट्रांसफर या किसी भी ऑफिसर का नियुक्ति करण एक कलेक्टर करते हैं, इसके अलावा भी एक कलेक्टर के बहुत सारे काम होते हैं।

कलेक्टर बनने के लिए कौन सा सब्जेक्ट लेना चाहिए | 12वीं के बाद कलेक्टर कैसे बने?

शहर में कानून व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए एक कलेक्टर कोई भी जरूरी कदम उठा सकते हैं तथा शहर में कर्फ्यू भी लगा सकते हैं या धारा 144 भी लागू कर सकते हैं।

यह सब लागू करने के लिए एक कलेक्टर का होना जरूरी है क्योंकि कलेक्टर के अलावा दूसरा कोई भी सरकार इंसान इस कार्य को नहीं कर सकते हैं।

ऐसे में बहुत सारे छात्र यह चाहते हैं कि वह भी एक कलेक्टर बने और सर को अच्छे से चलाएं तथा कानून व्यवस्था में सुधार लाए।

ऐसे में बहुत सारे छात्रों का यह सवाल रहता है कि कलेक्टर बनने के लिए कौन सा सब्जेक्ट लेना चाहिए (collector banne ke liye kaun sa subject Lena Chahiye) तो चलिए आज के लेख में हम जानते हैं।

आप इस लेख को पूरा अंत तक पढ़ा था कि आपको कलेक्टर से संबंधित सभी प्रकार के जानकारी मिल जाए और आप अच्छे से समझ जाएं और आप को समझने में किसी भी प्रकार की दिक्कत ना हो।

कलेक्टर बनने के लिए कौन सा सब्जेक्ट लेना चाहिए

कलेक्टर बनने के लिए सब्जेक्ट की बात की जाए तो आपको बता दें कि आप कोई भी सब्जेक्ट की पढ़ाई करके कलेक्टर बन सकते हैं इसके लिए कोई भी स्पेशल सब्जेक्ट निर्धारित नहीं किया गया है।

चलिए अब हम इस की भर्ती की प्रोसेस के बारे में जानते हैं तो आपको बता दें कि इस की भर्ती में सबसे पहले आपको यूपीएससी की परीक्षा को पास करना होता है।

तो चलिए यूपीएससी की परीक्षा को पास करने के लिए किन-किन सब्जेक्ट को पढ़ना पड़ता है इसके बारे में हम बारीकी से बात करेंगे।

आपको बता दें कि यूपीएससी की परीक्षा तीन चरणों में होती है पहला प्रारंभिक परीक्षा उसके बाद मुख्य परीक्षा और फिर अंतिम में इंटरव्यू लिया जाता है।

प्रारंभिक परीक्षा में 2 पेपर होते हैं जिसमें पहला पेपर जनरल स्टडीज का होता है जिसमें 200 नंबर के 100 प्रश्न पूछे जाते हैं और सभी बहुविकल्पीय प्रश्न होते हैं जिनका समय 2 घंटा दिया जाता है।

प्रारंभिक परीक्षा के जनरल स्टडीज में जिन सभी सब्जेक्ट से प्रश्न पूछे जाते हैं वह सभी सब्जेक्ट निम्नलिखित है।

General Studies के सब्जेक्ट 

  • विज्ञान
  • अर्थशास्त्र
  • पर्यावरण और परिस्थितिकी
  • भूगोल
  • सामयिकी
  • आधुनिक इतिहास
  • मध्यकालीन इतिहास
  • आजादी के बाद का इतिहास
  • सरकारी नीतियां और पहलू
  • अंतराष्ट्रीय संबंध
  • संस्थान
  • कला और संस्कृति
  • राजनीति

उसके बाद सिविल सर्विस एप्टीट्यूड टेस्ट लिया जाता है जिसमें निम्नलिखित विषय से प्रश्न पूछे जाते हैं।

Civil Services Aptitude Test के सब्जेक्ट 

  • अंग्रेजी
  • गणित (अंकगणित, बीजगणित, रेखागणित तथा सांख्यिकी)
  • Logical and analytical ability
  • सामान्य बौद्धिक योग्यता
  • Comprehensive
  • Decision making and problem solving

इसके बाद मुख्य परीक्षा होती है जिसमें 9 पेपर होते हैं और प्रत्येक पेपर का समय 3 घंटे होता है जिसमें लैंग्वेज के 2 पेपर होते हैं।

Language (2 पेपर)

  • Essay
  • General studies 1
  • General studies 2
  • General studies 3
  • General studies 4
  • Optional Paper – Paper 1 और Paper 2

लैंग्वेज (टू पेपर) में अंग्रेजी का पेपर अनिवार्य होता है जिसमें 300-300 नंबर का होता है और समय 3-3 घंटे दिया जाता है इसके बाद Essay का होता है जो 300 अंक का होता है और समय 3 घंटे दिया जाता है।

Essay के सब्जेक्ट 

  • साहित्य और संस्कृति
  • विज्ञान
  • सामाजिक क्षेत्र
  • प्राकृतिक आपदायें
  • कृषि उद्योग एवं व्यापार
  • पर्यावरण और प्रौद्योगिकी
  • राजनैतिक क्षेत्र
  • आर्थिक क्षेत्र
  • राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय घटनाक्रम
  • राष्ट्रीय विकास योजना और परियोजना

अब बात करें General studies 1, General studies 2, General studies 3 तो इसका एग्जाम 250-250  नंबर के होते हैं जो कि समय 3-3 घंटे का होता है। जिनमे निम्नलिखित सब्जेक्ट से प्रश्न पूछे जाते हैं।

  • भारतीय भुगोल और प्राकृतिक संसाधन
  • भारतीय इतिहास (प्राचीन, मध्यकालीन और आधुनिक)
  • भारतीय राजनीति
  • विश्व भुगोल
  • सामान्य विज्ञान
  • भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन और भारतीय संस्कृति
  • राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर घटित वर्तमान घटनाएं
  • भारतीय अर्थव्यवस्था
  • भारतीय कृषि
  • सामाजिक रीति रिवाज
  • जीवन शैली

चलिए अब हम General studies 4 के  सब्जेक्ट की बात करते हैं तो बता दें कि इसमें इसमें Ethics पेपर से सवाल पूछे जाते है जो की 250 नंबर का होता है। 

अब हम ऑप्शनल पेपर की बात करते हैं तो इसमें 2 पेपर होते हैं paper 1 और paper 2 इसमें भी 230-230 नंबर के एग्जाम होते हैं और इसका टाइम भी 3-3 घंटा का होता है।

इसमें टोटल 29 सब्जेक्ट होते हैं जिसमें कैंडिडेट को कोई एक सब्जेक्ट चुनना होता है और उसी से प्रश्न पूछे जाते हैं।

यह प्रक्रिया होने के बाद अंतिम प्रक्रिया इंटरव्यू का होता है और इंटरव्यू की बात करें तो इंटरव्यू भी 250 नंबर का होता है जिसे पास करने के बाद आप एक आईएएस ऑफिसर बनते हैं और उसके बाद आप एक कलेक्टर बन जाते हैं। (ऊपर हमने जाना कलेक्टर बनने के लिए कौन सा सब्जेक्ट लेना चाहिए)।

कलेक्टर के लिए कौन सी पढ़ाई करें?

यदि आप कलेक्टर बनना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको ग्रेजुएशन कंप्लीट करना है ग्रैजुएशन कंप्लीट करने के बाद आपको यूपीएससी का एग्जाम देना होता है।

बहुत सारे छात्रों द्वारा यह पूछा गया था कि क्या हम 12वीं पास करने के बाद यूपीएससी का एग्जाम दे सकते हैं तो उन लोगों के लिए मैं बता दूं कि आप 12वीं पास करने के बाद यूपीएससी का एग्जाम नहीं दे सकते हैं।

यूपीएससी का एग्जाम देने के लिए ग्रेजुएशन कंप्लीट होना अनिवार्य माना जाता है क्योंकि जब तक आपका ग्रेजुएशन कंप्लीट नहीं होता है तब तक आप यूपीएससी के एग्जाम में शामिल नहीं हो सकते हैं।

इसलिए कलेक्टर बनने के लिए सबसे पहले आप अपना ग्रैजुएशन कंप्लीट करें उसके बाद आप यूपीएससी का फॉर्म भरें और यूपीएससी का एग्जाम दें।

आपको बता दें कि यूपीएससी का एग्जाम भारत का सबसे कठिन एग्जाम में से एक माना जाता है इसलिए आप यूपीएससी का एग्जाम 12वीं पास करने के बाद ही आरंभ कर दें तो बेहतर होगा।

यूपीएससी का तैयारी करने में बहुत ज्यादा मेहनत करना होता है और समय भी बहुत ज्यादा लगता है इसलिए यदि आप सोचेंगे कि ग्रेजुएशन के बाद हम यूपीएससी का तैयारी करें तो आप गलत सोच रहे।

12वीं कक्षा से यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दें ताकि आपको ग्रेजुएशन के बाद यूपीएससी एग्जाम देने में किसी भी प्रकार का दिक्कत ना हो और आपके पास समय बहुत ज्यादा रहे तैयारी करने के लिए।

यूपीएससी का एग्जाम देने के बाद आपको टॉप 100 विद्यार्थियों के रैंक में आना होता है उसके बाद आप एक आईएएस ऑफिसर बन जाते हैं।

आईएएस ऑफिसर बनने के बाद आपका जब एक से दो बार प्रमोशन होता है तो आप एक कलेक्टर बन सकते हैं।

कलेक्टर की 1 महीने की सैलरी कितनी होती है?

कलेक्टर की 1 महीने की सैलरी की बात की जाए तो एक कलेक्टर की 1 महीने की सैलरी सातवें वेतन आयोग के अनुसार लगभग ₹80000 से ₹250000 तक हो सकती है।

प्रत्येक राज्य में कलेक्टर की सैलरी अलग-अलग होती है किसी जगह में कलेक्टर की सैलरी कम होती है तो किसी किसी जगह में कलेक्टर की सैलरी बहुत अधिक होती है।

यह राज्य पर निर्भर करता है कि वह राज किस तरह चल रहा है और उस राज्य में कितना सैलरी होना चाहिए लेकिन एक कलेक्टर की सैलरी बहुत अधिक होती है।

एक कलेक्टर को सैलरी के अलावा भी काफी सारी सुविधाएं दिए जाते हैं और सुविधाओं के साथ-साथ बहुत सारे अलाउंस भी प्रोवाइड कराए जाते हैं।

एक कलेक्टर को रहने के लिए आवास, ड्राइवर, सिक्योरिटी गार्ड, बिजली-पानी तथा गाड़ी का सुविधा सरकार द्वारा दिया जाता है जोकि सैलरी के अलावा होता है।

अर्थात सैलरी में इन सभी चीजों का कॉस्ट को नहीं जोड़ा जाता है यह सब कलेक्टर को फ्री में प्रोवाइड कराया जाता है जो कि उसकी सैलरी से अलग होती है।

कलेक्टर बनने के लिए हाइट कितनी होनी चाहिए?

कलेक्टर बनने के लिए हाइट की बात की जाए तो एक कलेक्टर की हाइट लगभग 5 फीट 6इंच होनी चाहिए, इसके बाद ही कोई एक कलेक्टर बन सकते हैं।

यदि आप अभी कलेक्टर बनना चाहते हैं तो आप अपने हाइट को देख ले जल्दी आपकी हाइट 5 फीट 6 इंच है तो आप एक कलेक्टर बन सकते हैं लेकिन जल्दी आपकी हाइट 5 फीट 6 इंच से कम है तो आप एक कलेक्टर बनने से वंचित रह जाएंगे।

हाइट के अलावा भी एक कलेक्टर बनने के लिए काफी सारे योग्यता की जरूरत होती है उसके बाद एक कलेक्टर बन सकते हैं कलेक्टर बनने के लिए बहुत ही परिश्रम का जरूरत होता है।

आपको बता दें कि कलेक्टर बनने के लिए यूपीएससी का एग्जाम क्लियर करना होता है और यूपीएससी का एग्जाम भारत में सबसे कठिन एग्जाम में से माना जाता है।

12वीं के बाद कलेक्टर कैसे बने?

12वीं के बाद कलेक्टर बनने के लिए सबसे पहले आपको ग्रेजुएशन पूरा करना होता है क्योंकि कलेक्टर बनने के लिए यूपीएससी का एग्जाम देना होता है।

यूपीएससी का एग्जाम देने के लिए आपका ग्रेजुएशन होना बहुत जरूरी है क्योंकि बिना ग्रेजुएशन कि आप यूपीएससी के एग्जाम में शामिल नहीं हो सकते हैं।

इसलिए सबसे पहले आपको 12वीं पास करना है उसके बाद ग्रेजुएशन पास करना है आप चाहे किसी भी स्ट्रीम से 12वी और ग्रैजुएशन पास कर सकते हैं।

ग्रेजुएशन पास करने के बाद आपको यूपीएससी का एग्जाम के लिए अप्लाई करना है उसके बाद यूपीएससी का एग्जाम है आपको टॉप 100 विद्यार्थियों के रैंक में अपना नाम लाना है।

जब आप यूपीएससी क्लियर कर लेते हैं तो आप एक आईएएस ऑफिसर बन जाते हैं तथा आईएएस ऑफिसर बनने के बाद जब आपका प्रमोशन होता है तो आप एक कलेक्टर बन जाते हैं।

साधारण भाषा में बात करें तो 12वीं के बाद कलेक्टर बनने के लिए सबसे पहले आपको ग्रेजुएशन पूरा करना होता है तथा ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद आपको यूपीएससी का एग्जाम क्लियर करना होता है।

जब आप यूपीएससी का एग्जाम क्लियर कर लेते हैं तो आप एक आईएएस ऑफिसर बनते हैं तथा जब आप कुछ दिन तक आईएएस ऑफिसर बन कर कार्य करते हैं तो आपका प्रमोशन होता है।

जब आपका प्रमोशन होता है तो आप एक कलेक्टर बन जाते हैं और कलेक्टर बनकर अपने शहर और राज्य की सुरक्षा करते हैं।

कलेक्टर के लिए कौन सा विषय सबसे अच्छा है?

कलेक्टर बनने के लिए विषय कोई मैटर नहीं करता है आप कोई भी विषय से अपना पढ़ाई करें इससे कोई दिक्कत नहीं है।

बस आपको यूपीएससी का एग्जाम क्लियर करना होता है और यूपीएससी का एग्जाम क्लियर करने के लिए आपको बहुत मेहनत करना होता है।

आप 12वीं में कौन सा सब्जेक्ट से पढ़ाई कर रहे हैं यह कुछ मायने नहीं रखता है आप 12वीं में चाहे किसी भी स्ट्रीम से पढ़ाई करें या कोई भी सब्जेक्ट को लेकर पढ़ाई करें इससे यूपीएससी में कोई लेना देना नहीं होता है।

यदि आप यूपीएससी का एग्जाम क्लियर कर लेते हैं तो आप एक आईएएस ऑफिसर बन जाते हैं और आईएएस ऑफिसर बनने के बाद आपका प्रमोशन हो जाता है।

जब आपका प्रमोशन होता है तो 1 या 2 प्रमोशन होने के बाद आप एक कलेक्टर बन जाते हैं तथा कलेक्टर बन के आप क्षेत्र में अपना सेवा प्रदान कर सकते हैं।

कलेक्टर का पावर क्या होता है?

एक कलेक्टर का पावर की बात की जाए तो क्षेत्र में कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए किसी भी प्रकार के कदम को एक कलेक्टर उठा सकते हैं।

एक कलेक्टर चाहे तो शहर में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए जरूरत पड़ने पर कर्फ्यू भी लगा सकते हैं तथा जरूरत पड़ने पर धारा 144 भी लागू कर सकते हैं।

यह सब काम एक कलेक्टर कर सकते हैं क्योंकि एक कलेक्टर को इतना पावर होता है कि वह शहर में किसी भी प्रकार का कदम उठा सकते हैं कानून व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए।

इसके अलावा एक कलेक्टर जिले में विकास से संबंधित कार्य को कर सकते हैं तथा क्षेत्र में चल रही सभी योजनाओं पर नजर रख के उसकी निगरानी भी कर सकते हैं।

एक कलेक्टर का यह भी काम होता है कि वह तहसीलदार के सभी कार्यों को जांच करें तथा एक तहसील से दूसरी तहसील में ट्रांसफर करें यह सब कार्य भी एक कलेक्टर ही करते हैं।

इसके अलावा भी एक कलेक्टर वह सब कार्य को कर सकते हैं जो उस क्षेत्र में हो रही है क्योंकि क्षेत्र के मालिक के रूप में एक कलेक्टर ही होते हैं क्षेत्र को सही रूप से चलाने के लिए एक कलेक्टर कोई भी कदम उठा सकते हैं।

CONCLUSION :- कलेक्टर बनने के लिए कौन सा सब्जेक्ट लेना चाहिए

आज के इस लेख के माध्यम से हमने जाना कि कलेक्टर बनने के लिए कौन सा सब्जेक्ट लेना चाहिए (collector banne ke liye kaun sa subject Lena Chahiye) और साथ ही लोगों द्वारा पूछे गए कुछ सवालों के जवाब भी जाना। हमको उम्मीद है कि आज का यह लेख “कलेक्टर बनने के लिए कौन सा सब्जेक्ट लेना चाहिए (collector banne ke liye kaun sa subject Lena Chahiye)” आपको काफी अच्छा लगा होगा। collector से संबंधित सभी प्रकार के सवालों का जवाब आज हम इस लेख के माध्यम से समझ गए हैं तथा लोगों द्वारा पूछे गए सभी सवालों का जवाब भी आज हम जाने।इसके अलावा भी आपके मन में किसी प्रकार का सवाल है तो आप कमेंट कर सकते हैं आपके सवालों का जवाब जल्द से जल्द दिया जायेगा।

1 thought on “COLLECTOR BANNE KE LIYE SUBJECT KONSE LENE CHHAIYE कलेक्टर बनने के लिए कौन सा सब्जेक्ट लेना चाहिए | #Storiesviewforall”

Leave a Comment