What is the reasons of failure in life, जीवन में बार-बार असफलता मिलने के कारण क्या है? #Storiesviewforall.com

Table of Contents

what-is-the-reasons-of-failure-in-life, जीवन में बार-बार असफलता मिलने के कारण क्या है? #Storiesviewforall.com

अपने जीवन में हर कोई सफल होना चाहता है, कोई भी असफलता का सामना नहीं करना चाहता है। हर व्यक्ति एक अच्छा सपना देखता है और अपने सपने को साकार करना चाहता है। हर व्यक्ति अपने जीवन में यह इच्छा रखता है कि वह ज्यादा से ज्यादा success पाए और हर काम में कामयाबी हासिल कर पाए। जैसा कि आप जानते ही होंगे की सफल होने की इच्छा जितनी आकर्षक है, उससे कहीं ज्यादा कठिन भी है। इसी कारण हमने इस आर्टिकल के अंतर्गत What is the Reasons of Failure in life? इससे संबंधित संपूर्ण जानकारी दी है।

सफल होने के रास्ते लोगों को पता होते हैं, परंतु फिर भी वह सफल नहीं हो पाते क्योंकि वह लोग असफलता के कारणों को जानना ही नहीं चाहते हैं। जिस दिन आप लोग असफलता के कारण को समझ जाएंगे, उसी दिन आप सफलता की और अग्रसर होंगे। सफलता के रास्ते को ढूंढने से ज्यादा जरूरी असफलता के कारण होते हैं। यदि आप उन्हें जान लेंगे, तो आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता है। इसीलिए हमारे द्वारा आप सभी को इस लेख के अंतर्गत What is the Reason of Failure? के बारे में विस्तार पूर्वक बताया है। अधिक जानकारी के लिए इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें। 

अलग दिखने का डर

आप लोगों ने अपने आसपास कुछ ऐसे लोग अवश्य ही देखे होंगे। जो नई शुरुआत करके लोगों से अलग दिखने का डर रखते हैं। उन्हें हमेशा यह डर सताता रहता है कि “लोग क्या कहेंगे”। जैसा कि आप जानते ही होंगे। की कुछ लोगों को पसंद नहीं होता कि आप कोई नया काम करें या आप कोई ऐसे काम करें। जिससे उन्हें Discomfort फील होता है। यह कह सकते हैं कि यदि आप बदलने की कोशिश करते हैं, तो लोग आपको बदलते हुए नहीं देख सकते।

यही कारण है कि यदि आप कोई भी सफलता प्राप्त होते है, तो उसे लोग अपनी विफलता सोचते हैं यानी कि यदि आप कोई भी अच्छे काम को करते हैं, तो उन्हें जलन फील होती है और आप इसी वजह से घबराते हैं, कि लोग क्या कहेंगे। शायद यह भी हो सकता है, कि जो लोग आप के ज्यादा करीब है, वह आपसे ज्यादा क्रूर होंगे। इसीलिए आपको अपने विचारों और इच्छाओं पर पूरी तरीके से कॉन्फिडेंट रहना होगा। जिससे लोग कुछ भी ना कह सके।

खुद को कमजोर मान लेना

यदि असफलता की बात की जाए, तो जिंदगी में आपको असफलता भी देखने को मिलेगी। जब आप खुद को और लोगों से कमजोर समझने लगेंगे। दरअसल ऐसा होता है कि जो लोग शुरुआत से ही हार मान लेते हैं और अपने हारे हुए दिलो दिमाग से जिंदगी की जंग को लड़ते हैं। तो उन्हें निराशा ही प्राप्त होती है और जब ऐसे लोगों को अपनी जिंदगी में हार देखने को मिलती है, तो वह सीधे यह कह देते हैं कि “मैं क्या करूं, यह तो मेरी किस्मत में लिखा था। मैं यह डिजर्व नहीं करता”

आपने यह तो सुना ही होगा कि हमारा दिमाग या तो एक बहुत आज्ञाकारी नौकर बन सकता हैं या फिर एक निर्दयी मालिक हो सकता है। इसीलिए हम जैसा भी सोचते हैं वैसा बन जाते हैं। यही कारण है कि हमें हमेशा अच्छा ही सोचना चाहिए। कोई भी जंग लड़ने से पहले हमें हार नहीं माननी चाहिए। ऐसे लोग जो पहले से ही मानकर चलने लगते हैं कि वह इस काम के लिए समर्थ नहीं है, तो फिर उनसे वही काम नहीं हो पता है। इसलिए आपको ऐसा नहीं करना है।

हमेशा खुद को सही साबित करने की कोशिश

एक असफलता का यह कारण भी होता है, कि आप अपने आप को सुधारने की बजाय अपने आप को सही साबित कर बैठेते हैं। लेकिन यदि आप खुद को सही साबित करने में लग जाते हैं, तो असफलता आपकी लाइफ में अवश्य ही आएगी साथ ही साथ जो लोग पुनर्विचार नहीं करते हैं। उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ता है। बहुत से लोग असफलता के कारण आत्महत्या का ऑप्शन चुनते हैं। जो इंसान खुद को सही साबित करता है। वह किसी भी सही कार्य को सीखने में हमेशा पीछे रह जाता है।

साथ ही साथ हम आपको बता दें कि आपको जानकारी को ध्यान से रखने में सक्षम होना चाहिए। आपको हर परिस्थिति में खुद को सही साबित नहीं करना चाहिए। आप कभी-कभी गलत भी हो सकते हैं। यदि आप ऐसा करते हैं कि आप गलत भी हैं, फिर भी आप अपने आप को सही साबित कर रहे हैं, तो इस परिस्थिति में असफलता का आना बिल्कुल पक्का हो जाता है। इसीलिए यदि आप सक्सेज होना चाहते हैं, तो आपको खुद के बारे में भी सुना होगा।

कंपटीशन

यह तो आप लोग जानते ही होंगे कि आज के इस दौर में कंपटीशन का कितना चलन हो गया है। हर क्षेत्र के अंतर्गत आपको कंपटीशन देखने को मिलेगा। यदि आप किसी भी क्षेत्र में आगे बढ़ना चाहते हैं, तो आपको कठोर मेहनत करने की आवश्यकता होती है। परेशानी तो उन लोगों को आती है जोकि कंपटीशन में जाने से पहले ही हार मान लेते हैं। वह यह सोचने लगते हैं कि यहां तो बहुत काबिल व बड़े-बड़े लोग ही पहुँचते हैं।

ऐसे लोग सोचने लगते है कि यहां पर मैं कैसे टिक पाऊंगा या कैसे जीत पाऊंगा। इसे भी हम असफलता का बहुत बड़ा कारण कह सकते हैं। ऐसा आपको बिल्कुल भी नहीं सोचना चाहिए बल्कि आपको यह सोचना चाहिए कि हम इस कंपटीशन में उतर रहेंगे। तो हमें ज्यादा से ज्यादा मेहनत करनी है और बहुत कोशिश करके इसमें जीतना है, तो आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि आपको नेगेटिव नहीं सोचना है, हमेशा पॉजिटिव ही सोचना है, तभी आप सफल हो पाएंगे।

ज्ञान की कमी होना

आपने अपने आसपास से अवश्य ही देखा होगा कि कुछ लोग इंस्पायरड होकर अपना काम तो स्टार्ट कर देते हैं, परंतु उन्हें उस काम के बारे में बहुत कम ज्ञान होता है। जिस कारण उनका वह काम आगे चलते-चलते काफी ज्यादा धीमा पड़ जाता है और अंत समय में असफलता का सामना करना पड़ता है। इसीलिए हमेशा ज्ञान प्राप्त करने की कोशिश करनी चाहिए।

जो भी काम आप शुरू करना चाहते हैं, उसकी ट्रेनिंग कीजिए साथ ही साथ जो भी कार्य को आप करना चाहते हैं, उसके बारे में ज्यादा से ज्यादा ज्ञान प्राप्त करें। इससे आप अपनी मंजिल तक अवश्य ही पहुंच जाएंगे और आपको सफलता भी प्राप्त होगी। इस बात का ध्यान रखें कि जब तक आप सब कुछ नहीं जान लेते हैं, तब तक आपको चैन से नहीं बैठना है।

काम के प्रति उदासीनता

बहुत से लोगों के साथ ऐसा होता है की वह किसी काम को पूरी ताकत लगाकर करने से डरते हैं क्योंकि वे अपने मन में यह सोच लेते हैं कि इस काम में वह असफल हो जाएंगे। तो इसे ही उदासीनता नामक वायरस से संक्रमित कहा जाता हैं। यदि एक बार वह उदासीनता में फंस जाते हैं, तो उसके बाद उन्हें कोई भी प्रेरित नहीं कर सकता। यह लोग अपने आपको किसी काम के ऊपर पूरी तरीके से समर्पित करने से डरते है।

इनमें से बहुत से लोग ऐसे होते हैं, जो पहले से ही हार मान लेते हैं और अपने आप को किसी भी काम के काबिल नहीं समझते हैं। अन्य लोग ऐसे होते हैं, जो अपना इंटरेस्ट को देखते हैं और वहीं कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जिनके पास पर्याप्त ताकत नहीं होती कि वह किसी भी काम में अपनी ताकत लगा सके। यही कारण है कि ऐसे लोगों के पास असफलताएं आती ही रहती है। जिससे वह हमेशा उदास रहते हैं, तो आपको ऐसा बिल्कुल भी ऐसा नहीं करना है।

दिमाग का ज्यादा विचलित होना

कुछ लोग सफल होने के लिए अपने काम को स्टार्ट तो कर देते हैं, परंतु उनके सामने कुछ ऐसी घटनाएं होती है। जिससे उनका दिमाग विचलित होने लगता है। यदि ऐसा होता है, तो उनका दिमाग अपने लक्ष्य पर बिल्कुल भी नहीं टिकता है। वह इधर-उधर डगमगाने लगते है। जैसे कभी-कभी आपके साथ ऐसा होता होगा कि आप कोई न्यूज़ देख रहे हैं, तो आपका मन विचलित हो उठता है।

उसके बाद आप सोशल नेटवर्क्स पर चले जाते हैं और कुछ पोस्ट पर कमेंट करना स्टार्ट कर देते है और अंत में आपको यही परिणाम देखने को मिलता है कि आपने जो काम शुरू किया था, आपका जो लक्ष्य था। आप उससे दूर हो चुके हैं। इस प्रकार आप अपने लक्ष्य की कभी भी पूरा नहीं कर पाते हैं। इसलिए आपको ऐसा नहीं करना है, यदि आप कोई भी काम कर रहे हैं, तो आपको अपना पूरा ध्यान उसमें लगाना है विचलित नहीं होना है।

दूसरों के प्रति ईर्ष्या की भावना

सफलता का सबसे बड़ा कारण यही होता है कि आप दूसरे के प्रति की ईर्ष्या भावना रखते हैं। हम हमेशा उन लोगों से ईर्ष्या करते हैं, जो आपसे कई गुना सफल इंसान है। हम सच में उनके ही जैसा बनना चाहते हैं, परंतु हम हमेशा स्वयं ही बने रहते हैं। हम खुद को बदलने की कोशिश नहीं कर पाते हैं। सफलता हमेशा हमारे साथ रहती है इसलिए हमें कभी भी दूसरों से ईर्ष्या नहीं करनी चाहिए।

उसके उपरांत हमारे अंदर अस्वस्थ प्रतिस्पर्धा की भावना जागृत होती है। जिस कारण हम अपने आप को कष्ट देने लगते हैं। इसके साथ-साथ हमारे अंदर अक्सर अप्रिय विचार आने लगते हैं, हम यह सोचने लगते हैं कि वह क्यों, हम क्यों नहीं। यह ईर्ष्या की भावना हमें असफलता की ओर खींच कर ले जाती है बल्कि हम लोग यह नहीं सोचते हैं कि जिससे हम ईर्ष्या करते हैं, उसकी सफलता के पीछे क्या है।

निर्णय लेने की कमी

यदि आप किसी भी लक्ष्य को प्राप्त करना चाहते हैं, तो आपके अंदर passion होना आवश्यक है। यदि आपके अंदर किसी भी स्थिति में अच्छा या बड़ा निर्नय लेने की समर्थकता है, तो आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता है। इससे सफलता आपके साथ हमेशा रहेगी। इसलिए आपको हमेशा सही निर्णय लेने की कोशिश करनी चाहिए और आपके अंदर ऐसी समर्थकता होनी चाहिए कि आप अच्छी व गलत समय में सही निर्णय ले।

लेकिन यदि आपके साथ ऐसा होता है कि आप किसी भी सिचुएशन के साथ कोई भी सही डिसीजन नहीं ले पाते हैं और आप अपने लक्ष्य तक पहुंचाने के लिए कोई भी प्लान नहीं बना पाते हैं। यही नहीं बल्कि इसके साथ आपके पास कोई भी टाइम मैनेजमेंट का ज्ञान भी नहीं है, तो आपके जीवन में असफलता निश्चित हो जाती है इसीलिए यदि आपको सफल होना है, तो आपको टाइम मैनेजमेंट का ज्ञान भी रखना होगा।

गलत जीवन साथी का चुनाव

यह आप लोग जानते ही होंगे की शादी आपकी लाइफ में होने वाली सबसे महत्वपूर्ण घटना है। शादी होने के उपरांत आपका संपूर्ण जीवन परिवर्तित हो जाता है। शादी होने के बाद आपको एक लाइफ पार्टनर मिल जाता है, जो आपके हर फैसले में आपका साथ देता है। शादी के बाद आप कभी भी अकेला महसूस नहीं कर सकते हैं क्योंकि आपका पार्टनर आपके हमेशा साथ रहता है। शादी के समय पर सही साथी का चुनाव करना इसलिए जरूरी होता है क्योंकि सुख और दुख में सिर्फ जीवन साथी ही साथ निभाता है। 

 

यदि आपको कोई अच्छा जीवनसाथी ना मिले। तो उसे  आपके मकसद और लक्ष्य की कोई भी परवाह नही होगी। ऐसा लाइफ पार्टनर केवल आपको स्ट्रेस दे सकता है, परन्तु आपके फैसलों में आपकी कोई भी मदद नहीं कर सकेगा। इसके उपरांत आपकी लाइफ में आपको असफलता देखने को मिल सकती है क्योंकि यदि शादी के उपरांत पति-पत्नी की सोच अलग-अलग होती है, तो आप अपने लक्ष्य पर ध्यान नहीं दे पाएंगे और यह असफलता प्राप्त होने जैसा हो जाएगा।

माता-पिता का दवाब

हमारे देश के अंतर्गत आपको बहुत से लोग ऐसे देखने को मिलेंगे। जो अपने माता-पिता और अपने बुजुर्गों की राय को लेकर अपनी पूरी लाइफ जीते देते हैं। आज भी कई लोग  अपनी मनमर्जी की लाइफ नहीं जीते हैं बल्कि अपने से बढ़ो की राय के अनुसार अपनी जिंदगी को जीना शुरु कर देते हैं। ऐसा बहुत लोगों के साथ होता है। कुछ लोग खाने या तरह-तरह की व्यंजन बनाने की लाइन जैसे की एक शेफ़ बनना चाहते हैं।

परंतु उनके माता-पिता उन्हें क्लर्क बनने को कहते हैं, उसके उपरांत माता-पिता के दबाव के कारण उन्हें एक क्लर्क बनना पड़ता है। जिससे कि वह अपनी इच्छा खत्म कर देते हैं। इस स्थिति में उनका पूरा जीवन धूल भरी फाइलों के अंतर्गत दब के रह जाता है और वह अपनी इच्छाओं का दम घोट देते है। वैसे तो अक्सर लोग कहते हैं कि जहां चैन ना हो, वहां काम नहीं करना चाहिए। परंतु बहुत से लोग  माता-पिता के दबाव में सारे काम करते है।  

परिवार की जिम्मेदारी

बहुत से व्यक्तियों के साथ ऐसा भी होता है कि परिवार की जिम्मेदारी के कारण अपने लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर पाते हैं। कुछ लोगो के पास अपना खुद का लक्ष्य तो होता है, परन्तु उसके साथ पारिवारिक जिम्मेदारियां भी होती है। जिस कारण वह अपने लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर पाते है और असफलता हमेशा उनके साथ बनी रहती है। ऐसे लोगों को सफल होने के बहुत से मौके प्राप्त होते हैं, परंतु वह अपनी पारिवारिक जिम्मेदारियां को निभाते हुए उन्हें गवा बैठते हैं।

यह सब पारिवारिक जिम्मेदारियां के कारण होता है। पारिवारिक जिम्मेदारियां के कारण ही कुछ लोग अपने लक्ष्य की प्राप्ति नहीं कर पाते हैं और उन्हें फिर असफलताओं का सामना करना पड़ता है। फिर उनके बाद यह परिणाम निकलता है कि उनकी पूरी लाइफ में उनके सफल होने का कोई भी मौका नहीं बचता है। इसलिए ऐसा कहा जा सकता है कि जिन लोगों में क्षमता होती है। कई बार वह लोग भी अपनी एक्सपेक्टेड डेस्टिनेशन तक नहीं पहुंच पाते हैं।

जरा से में संतोष

ऐसे लोग अक्सर देखने को मिलते हैं, जिन्हें शुरुआती सफलता से ही इतनी खुशी प्राप्त हो जाती है कि वह यह सोच नहीं पाते कि अभी उसमें और सफलता मिलने की अपार गुंजाइश है। दरअसल कुछ लोगों के साथ ऐसा होता है कि उन्हें एक असुरक्षा की भावना घेर लेती है। जिसके माध्यम से उन्हें यह मानना होता है कि उन्हें जो भी प्राप्त हुआ है, वह उनके लिए बहुत है और उन्हें इसी में खुश होना होगा। इसीलिए यदि विकास की निरंतरता को जारी रखना है, तो आगे बढ़कर निरंतर प्रयास करते रहना चाहिए।

बरसों से चल रही एक कहावत पर भी कुछ लोग चलते हैं, यह कहावत यह है कि “जितना मिले उसमें संतोष कर लेना चाहिए” जबकि वह यह समझने में सक्षम नहीं हो पाए, की “जहां संतोष है वहीं अंत है”। दरअसल जो महान लोग होते हैं, वही यह बात अच्छे से जानते हैं कि वह कुछ नहीं जानते और साथ ही साथ ऐसे लोग यह भी सिखाते हैं कि वह गलतियां करते हैं। ऐसे लोग खुलकर अपनी कमजोरी के बारे में बात भी करते हैं और उसे सुधारते भी है।

जल्दी परिणाम प्राप्त करने की होड़

कुछ लोग ऐसे होते हैं। जो बहुत जल्दी से जल्दी परिणाम को प्राप्त करना चाहते हैं। कुछ लोग ऐसे होते हैं, जो कि काम भी बहुत ज्यादा अच्छा नहीं करते हैं और परिणाम भी बहुत अच्छा पाने की आशा रखते हैं। अक्सर कई लोगों के मुंह से आप सुनते होंगे कि इस काम को करते हुए इतने दिन हो गए, परंतु इससे कुछ हासिल तो हो ही नहीं रहा है। ऐसे लोग कोई भी काम पूरा करने हेतु सक्षम नहीं हो पाते हैं।

ऐसे लोग कोई भी लक्ष्य निर्धारित नही कर पाते है। अच्छे फल की प्राप्ति के लिए हमें इंतजार करना होता है, परंतु जो लोग जल्दी परिणाम चाहते हैं। वह इंतजार नहीं कर पाते है। यही कारण है कि उन्हें असफलता चारों ओर से घेर लेती है। ऐसे लोगो के जीवन में असफलता उनके साथ हमेशा रहती है। वह किसी कार्य के भी अंतर्गत सफलता प्राप्त नहीं कर पाते हैं। इस बात को हम सभी जानते हैं कि किसी भी कार्य को फलने व फूलने में तो टाइम लगता ही है।

जीवन में बार-बार असफलता मिलने के कारण क्या होते हैं? इससे संबंधित प्रश्न व उत्तर (FAQs):-

Q:- 1. हमें किसी काम के प्रति ज्ञान कैसे प्राप्त करना चाहिए?

Ans:- 1. जो भी काम आप शुरू करना चाहते हैं, उसकी ट्रेनिंग कीजिए साथ ही साथ जो भी कार्य को आप करना चाहते हैं, उसके बारे में ज्यादा से ज्यादा ज्ञान इंटरनेट के माध्यम से प्राप्त करें और ज्यादा से ज्यादा लोगों से भी जानकारी प्राप्त करें। एक्सपीरियंस वाले व्यक्तियों से बातचीत करें। इससे आप अपनी मंजिल तक अवश्य ही पहुंच जाएंगे और आपको सफलता भी प्राप्त होगी। 

Q:- 2. हमेशा खुद को सही साबित करने से क्या होता है?

Ans:- 2. यदि आप हमेशा खुद को सही साबित करते हैं, तो असफलता हमेशा आपके साथ रहेगी। इसलिए आपको कभी भी खुद को सही साबित नही करना है। यदि आप सफलता प्राप्त करना चाहते हैं, तो आपको खुद के बारे में सुनना भी पड़ेगा। आपको हमेशा खुद को सही साबित नहीं करना चाहिए बल्कि अपने आप को सुधारना चाहिए और अपनी गलती मान लेनी चाहिए। 

Q:- 3. क्या किसी काम करने से पहले ही हार मान लेनी चाहिए?

Ans:- 3. नहीं, आप कोई भी काम शुरू कर रहे हैं, तो सबसे पहले उसे करने की कोशिश करिए। जिससे कि वह काम सही से हो। किसी भी काम करने से पहले आप हार ना माने, यह न सोचे कि “मैं इस कार्य को नहीं कर पाऊंगा या मैं इस कार्य के काबिल नहीं हूं” यह सोचने से आपका दिमाग वैसा ही हो जाएगा और आप उस कार्य में सफल नहीं हो पाएंगे।  

Q:- 4. दिमाग विचलित ना हो, इसके लिए क्या करें?

Ans:- 4. यदि आप अपने लक्ष्य के प्रति एकाग्र रहना चाहते हैं और अपने दिमाग को विचलित नहीं करना चाहते हैं, तो आपको बहुत कड़ी मेहनत करनी चाहिए और ज्यादा से ज्यादा व्यस्त रहना चाहिए। जिससे कि आपका मन अपने लक्ष्य में लगा रहे और आपका दिमाग ज्यादा विचलित ना हो। यदि आपका दिमाग ज्यादा विचलित होता है, तो आप इसे कंट्रोल करने के लिए मेडिटेशन कर सकते हैं। 

Q:- 5. असफलता के क्या-क्या कारण होते हैं?

Ans:- 5. यदि आप लोग असफलता के कारण जानना चाहते हैं और सफल कैसे हो यह जानना चाहते हैं, तो हमने आप सभी को ऊपर इसकी संपूर्ण जानकारी दी है। जोकि आपको अवश्य ही पढ़नी चाहिए।यह जानकारी आपके लिए बेहद फायदेमंद साबित हो सकती है। 


2 thoughts on “What is the reasons of failure in life, जीवन में बार-बार असफलता मिलने के कारण क्या है? #Storiesviewforall.com”

  1. My cousin recommended this page to me, but no one else seems to know my concerns as well as he does, so I’m not sure whether he wrote this post. You are amazing; I appreciate you.

    Reply

Leave a Comment