Pharma D Course Kya H, फार्मा डी कोर्स क्या है कैसे करें? योग्यता, कार्य और सैलरी #Storiesviewforall

Table of Contents

Pharma D Course Kya H, फार्मा डी कोर्स क्या है कैसे करें? योग्यता, कार्य और सैलरी #Storiesviewforall

आज के समय में रोजगार का सबसे बड़ा क्षेत्र मेडिकल सेक्टर है। आज के समय में ज्यादातर बच्चे साइंस स्ट्रीम को लेकर इस क्षेत्र में अपना भविष्य बनाते हैं क्योंकि मेडिकल क्षेत्र की मांग दिन पर दिन बढ़ती जा रही है। मेडिकल सेक्टर में फार्मेसी की बहुत अधिक मांग है जिसके कारण फार्मेसी के क्षेत्र में आज के समय में सबसे ज्यादा बच्चे पढ़ाई करते हैं। फार्मेसी क्षेत्र के अंतर्गत मेडिकल और स्वास्थ्य से संबंधित दवाइयों को बनाया जाता है इसीलिए हमारे द्वारा आपको नीचे Pharma D Course kya hota hai? इस कोर्स के बारे में बताया जा रहा है। अधिक जानकारी के लिए इस लेख को अंत तक जरूर पढ़े।

फार्मा डी एक ऐसा कोर्स है, जिसे करने के बाद आप इस क्षेत्र में एक अच्छा पद हासिल कर सकते हैं। बहुत से लोगों को इसके बारे में जानकारी होती है। परंतु जिन छात्रों ने केवल इसका नाम सुना है और इस क्षेत्र में दिलचस्पी रखते हैं, तो उन्हें इसकी पूरी जानकारी प्राप्त करनी होगी। ताकि यदि वो इस क्षेत्र में अपने भविष्य बनाने के बारे में सोचें, तो उन्हें किसी भी प्रकार की परेशानी ना हो। इसीलिए हमारे द्वारा आप सभी को नीचे लेख में What is the Pharm D Course? How to become a Pharm D? What is the salary of Pharm D? आदि के बारे में बताया गया है। यह जानकारी निम्न प्रकार है-

Pharma D Course Kya H, फार्मा डी कोर्स क्या है कैसे करें? योग्यता, कार्य और सैलरी #Storiesviewforall

फार्मा डी कोर्स कोर्स क्या होता है? (What is the Pharm D Course?)

दोस्तों, सबसे पहले आप लोगों को फार्मा डी क्या होता है, इसके बारे में जाना होगा। इसलिए हम आपको यहां What is the Pharm D Course? इसके बारे में बता रहे हैं। फार्मा डी एक प्रकार का प्रोफेशनल कोर्स है। इस कोर्स को आप 12वीं कक्षा पास करने के तुरंत बाद कर सकते हैं। यह एक प्रकार का फार्मेसी डॉक्टरल कोर्स होता है। 12वीं के बाद इस कोर्स की अवधि 6 साल की होती है। जिसमें से छात्र 5 साल तक एकेडमिक पढ़ाई करते हैं तथा 1 साल तक इस क्षेत्र में ट्रेनिंग करते है।

परंतु यदि कुछ उम्मीदवार ऐसे हैं, जो फार्मेसी के क्षेत्र में बैचलर डिग्री कर चुके हैं तथा इसके बाद वह फार्मा डी कोर्स करना चाहते हैं। उम्मीदवार को इस कोर्स में केवल 3 वर्ष का पाठ्यक्रम पढ़ना होता है। इस कोर्स के अंतर्गत उम्मीदवार दवाइयों से संबंधित जानकारी प्राप्त करते हैं। यह कोर्स रिसर्च बेस्ड कोर्स है। इस क्षेत्र में आपको एंटीवायरस तथा नई नई बीमारी के ऊपर रिसर्च करनी होती है। इस कोर्स में आपको मेडिकल रिसर्च की दवाइयों के बारे में बताया जाता है।

पहले फार्म डी कोर्स हमारे देश में नहीं था। परंतु दिन पर दिन इस कोर्स की मांग बढ़ती जा रही है। जिसको देखते हुए हमारे देश में यह कोर्स लाया गया। इस क्षेत्र में छात्र बहुत सारी चीजों को सीखते हैं। इस कोर्स के अंतर्गत अभ्यार्थी मेडिकल टेस्ट के बारे में भी जानते हैं। साथ ही साथ इस कोर्स को करके आप अपने नाम के आगे डॉक्टर लगा सकते हैं। इसमें आप सभी को प्रैक्टिकल नॉलेज दी जाती है। यदि आप यह कोर्स करते हैं, तो आप अपने भविष्य को बेहतर करने में सक्षम होते है।

फार्मा डी की फुल फॉर्म क्या होती है? (What is the full form of Pharm D?)

दोस्तों, फार्मा डी एक शॉर्ट फॉर्म है। इसकी फुल फॉर्म Doctor of pharmacy होती है। यह एक प्रकार का प्रोफेशनल कोर्स है, इसे करने के बाद किसी भी छात्र के नाम के आगे डॉक्टर लग जाता है। इस कोर्स को करने के बाद उम्मीदवार मेडिकल दवाइयों से संबंधित जानकारी  हासिल करते है। इस कोर्स को करके छात्र मरीजों के रोगों की जांच करने के बारे में भी पढ़ते हैं।

फार्मा डी कोर्स करने के लिए योग्यताएं? (Eligibility for becoming a Pharm D Course?)

फार्मा डी कोर्स करना आसान नहीं है, इसके लिए छात्रों को बहुत मेहनत करनी पड़ती है। आज का युवा मेडिकल क्षेत्र में अपना भविष्य बनाने के लिए दिन-रात पढ़ाई करता है। परंतु जो छात्र फार्मा डी कोर्स करने के इच्छुक हैं। उन्हें कुछ आवश्यक योग्यताओं को पूरा करना होगा। यदि फार्मा डी कोर्स करने के लिए छात्र पात्रताओं को पूरा नहीं करते हैं, तो उन्हें इस कोर्स को करने योग्य नहीं समझा जाता है। इसीलिए हमारे द्वारा आप सभी को नीचे Eligibility For becoming a Pharm D Course? के बारे में बताया जा रहा है। यह जानकारी निम्न प्रकार है-

  • फार्मा डी कोर्स एक मेडिकल क्षेत्र का कोर्स है, जिसे करने के लिए उम्मीदवार को 12वीं कक्षा पीसीबी विषय यानी फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी से पास करनी होगी। साथ ही साथ उन्हें 12वीं कक्षा में कम से कम 50% अंक लाना अनिवार्य है।
  • जो उम्मीदवार फार्मेसी मे डिप्लोमा प्राप्त कर चुके हैं। वह भी इस कोर्स को करने के योग्य होते हैं।
  • यदि उम्मीदवार बी फार्मा करके अपनी बैचलर डिग्री पूरी करते हैं, तो उन्हें बी फार्मा में कम से कम 50 से 60% अंक लाने होंगे। तभी वह फार्मा डी कोर्स करने में सक्षम होते हैं।
  • जो उम्मीदवार फार्मा डी कोर्स करना चाहता है। उसकी न्यूनतम आयु 17 वर्ष होनी चाहिए।
  • जबकि उम्मीदवार के फार्मा डी कोर्स करने की अधिकतम आयु निश्चित नहीं है।
  • हमारे द्वारा आप सभी को ऊपर फार्मा डी कोर्स करने की योग्यताओं के बारे में बता दिया गया है। यदि आप सभी पात्रताओं को पूरा करते हैं, तो आप फार्मा डी कोर्स कर सकते हैं।

फार्मा डी कैसे बने? (How to become a Pharm D?)

दोस्तों, डॉक्टर ऑफ़ फार्मेसी बनने के लिए आपको कुछ चरण पूरे करने होंगे। तब जाकर आप इस स्तर तक पहुंचा सकेंगे। बहुत से छात्र ऐसे हैं, जो अपने नाम के आगे डॉक्टर लगाना चाहते हैं। परंतु किसी कारणवश डॉक्टर नहीं बन सके, तो वह इस कोर्स को करके अपने नाम के आगे डॉक्टर लगा सकते हैं। परंतु इसके लिए आपको जानना होगा कि How to do Pharm D Course? How to become a Pharm D? यदि आप सब भी यह जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो हमारे द्वारा आप सबको नीचे इसके बारे में स्टेप बाय स्टेप जानकारी दी गई है। जो कि निम्न प्रकार है-

#1. 12th कक्षा अच्छे नंबरों के साथ पास करें (Pass the 12th class with the good marks)

12वीं कक्षा में आने के बाद से ही युवा अपने भविष्य के प्रति सचेत हो जाता है तथा निश्चित कर लेता है, कि उसे आगे भविष्य में किस क्षेत्र में पढ़ाई करनी है। इन्हीं में से बहुत से छात्र ऐसे होंगे, जो बारहवीं कक्षा के बाद मेडिकल क्षेत्र में जाना चाहते हैं। तो उन लोगों को 11वीं व 12वीं कक्षा में पीसीबी विषय यानी फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी विषय से पढ़ाई करनी होगी। ताकि वह आगे की पढ़ाई बिना किसी परेशानी के कर सकें। यदि आप सब चाहते हैं कि आगे आप अच्छे से पढ़ाई करने में सक्षम हो, तो आपको 12वीं कक्षा में 50 से 60% अंक लाने होंगे।

12वीं कक्षा में अच्छे अंक लाना इसलिए आवश्यक है क्योंकि आप सब लोग 12th कक्षा के बाद फार्मा डी कोर्स कर सकते हैं। हमारे भारत में बहुत सारे प्रसिद्ध कॉलेज हैं। यदि आप इनमें दाखला प्राप्त करना चाहते हैं, तो आपको प्रवेश परीक्षा देनी होती है। परंतु बहुत से ऐसे  कॉलेज होते हैं जो अंकों के आधार पर आपको दाखिला दे देते हैं। यदि आप 12वीं कक्षा में अच्छे नंबर लाते हैं, तो आप किसी अच्छे कॉलेज में अपनी 12वीं कक्षा के अंकों के आधार पर एडमिशन प्राप्त कर सकते हैं। इसीलिए आपको 12वीं कक्षा की पढ़ाई बहुत ही ध्यान पूर्वक करनी होती है।

#2. स्नातक की डिग्री प्राप्त करें (Get the graduation degree)

बहुत से छात्र ऐसे होते हैं, जो 12वीं कक्षा करने के बाद बी फार्मा कोर्स को कर लेते हैं। उसके बाद उन्हें फार्मा डी कोर्स करने की जरूरत पड़ती है, तो छात्र कर सकते हैं। 12वीं के बाद यदि छात्र फार्मा डी कोर्स करते हैं, तो इस कोर्स की अवधि 6 वर्ष की होती है। जिसमें 5 वर्ष तक उम्मीदवारों के एकेडमिक की पढ़ाई करनी पड़ती है तथा 1 वर्ष उन्हें ट्रेनिंग दी जाती है। यदि उम्मीदवार स्नातक की डिग्री प्राप्त करने के बाद फार्मा डी कोर्स करता है, तो उसकी अवधि 3 वर्ष की होती है।

#3. नीट एग्जाम को पास करें (Pass the NEET exam)

यदि उम्मीदवार 12th या स्नातक के बाद फार्मा डी कोर्स करना चाहता है, तो उसे किसी कॉलेज में दाखिला लेना होगा। प्रत्येक उम्मीदवार एक अच्छे कॉलेज में दाखिला लेने की सोचता है। जिसके लिए उसे नीट प्रवेश परीक्षा से होकर गुजरना पड़ता है। यदि उम्मीदवार प्रवेश परीक्षा देकर किसी कॉलेज में दाखिला लेते हैं, तो उन्हें विभिन्न प्रकार की सुविधाएं जैसे:- फीस कम जमा करना, छात्रवृत्ति, क्वालिटी स्टडी आदि प्राप्त होती है। साथ ही उन्हें एक उच्च क्वालिटी की ट्रेनिंग भी दी जाती है।

 परंतु प्रवेश परीक्षा को पास करना आसान नहीं होता है। प्रवेश परीक्षा को पास करने के लिए उम्मीदवारों को बहुत मेहनत करनी होती है। प्रवेश परीक्षा को पास करने के लिए उम्मीदवार की सेल्फ स्टडी बहुत आवश्यक है। आप इंटरनेट, वेबसाइट और यूट्यूब आदि की सहायता से नीट एग्जाम तो पास कर सकते हैं। साथ कि आप प्रीवियस ईयर क्वेश्चन पेपर की सहायता से परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं। इस प्रवेश परीक्षा की तैयारी आपको 12वीं स्नातक से ही शुरु कर देनी होगी। तभी आप इस प्रवेश परीक्षा को पास करने में सक्षम हो सकेंगे।

#4. फार्मा डी कोर्स की पढ़ाई पूरी करें (Complete the study of Pharm D Course)

फार्मा डी कोर्स में दाखिला होने के बाद अभ्यार्थियों को बहुत मेहनत करके पढ़ाई पूरी करनी होती है क्योंकि इसके अंतर्गत अभ्यार्थियों को प्रैक्टिकल नॉलेज दी जाती है। यदि अभ्यर्थी बिना ध्यान पूर्वक इस कोर्स को करेंगे, तो उन्हें आगे भविष्य में होने बहुत मुसीबतों का सामना करना पड़ेगा। यही कारण है कि फार्मा डी कोर्स को करते समय अभ्यार्थियों का पूरा ध्यान कोर्स पर होना आवश्यक है।

इस कोर्स को उम्मीदवार एक प्रसिद्ध कॉलेज से करना चाहते है। जिसके लिए विभिन्न प्रकार की प्रवेश परीक्षाएं आयोजित होती है। परंतु यदि आप प्रवेश परीक्षा पास करके एक अच्छे कॉलेज में दाखिला ले लेते है, तब भी आपको इस कोर्स की पढ़ाई बहुत मेहनत से पूरी करनी होगी। ताकि आप इस कोर्स से संपूर्ण जानकारी हासिल कर सकें। इन सभी जानकारी का भविष्य में आपको बहुत ही फायदा प्राप्त होगा।

फार्मा डी कोर्स के लिए होने वाले सबसे अच्छी प्रवेश परीक्षाएं? (Best Entrance Exam of Pharm D Course?)

यदि अभ्यार्थी भारत के प्रसिद्ध कॉलेज में एडमिशन प्राप्त करना चाहते हैं, तो उन्हें फार्मा डी कोर्स करने के लिए प्रवेश परीक्षा आवश्यक तौर पर देनी होती है। परंतु जो अभ्यार्थी केवल इस क्षेत्र में अपना भविष्य बनाने की सोच रहे हैं। उन्हें इसकी जानकारी प्राप्त होना बेहद जरूरी है। इसीलिए हमारे द्वारा आप सभी को नीचे Best Entrance Exam of Pharm D Course? के बारे में बताया गया है। प्रवेश परीक्षा की यह संपूर्ण जानकारी निम्न प्रकार है-

  • वेल्स एंट्रेंस एग्जाम (Vels entrance exam)
  • महाराष्ट्र कॉमन एंट्रेंस टेस्ट (Maharashtra common entrance test)
  • इंटीग्रल यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट (Integral university entrance test)
  • एमयू ओईटी (MU OET)
  • एनआईएमएस एंट्रेंस टेस्ट (NIMS Entrance test)
  • एनआईपीआर जेईई (NIPER JEE)
  • भारती विद्यापीठ कॉमन एंट्रेंस टेस्ट (Bharti vidhyapreth common entrance test)
  • दयानंद सागर यूनिवर्सिटी कॉमन एंटरेंस टेस्ट (Dayanand sagar university common entrance test)

भारत में फार्मा डी कोर्स करने के लिए सबसे अच्छे कॉलेज? (Best college for Pharm D Course in india?)

फार्म डी कोर्स हमारे देश में पहले नहीं था। पहले इस कोर्स को लोग विदेश जाकर करते थे। परंतु इस कोर्स की बढ़ती मांग को देखकर हमारे देश में भी इस कोर्स को शुरू कर दिया गया है। परंतु अभी ज्यादा कॉलेज इस कोर्स को नहीं करवा रहे हैं। अभी हमारे देश में केवल प्राइवेट संस्थान में ही फार्मा डी कोर्स देखने को मिलता है। फार्मा डी कोर्स कराने वाले 100% कॉलेज में से 95% कॉलेज प्राइवेट तथा 5% कॉलेज सरकारी है। जो कॉलेज फार्मा डी कोर्स को कराना चाहते हैं। उनको यूजीसी और एआईसीईटी से मान्यता प्राप्त होनी चाहिए। परंतु कुछ कॉलेज को एनसीआई से भी मान्यता प्राप्त होती है।

जिन कॉलेजों को मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया से मान्यता प्राप्त होती है। उन कॉलेज के अंदर एक हॉस्पिटल उपस्थित होता है। यदि आप सभी लोग उस कॉलेज से फार्मा डी कोर्स करते हैं, तो आपको विभिन्न प्रकार के फायदे प्राप्त होते हैं क्योंकि ऐसे कॉलेजों के अंदर ही छात्रों को ट्रेनिंग की सुविधा उपलब्ध होती है। यदि आप लोग यह जानना चाहते हैं की हमारे भारत में कौन-कौन से ऐसे अच्छे कॉलेज हैं। जो फार्मा डी कोर्स कराते हैं, तो इसके बारे में हमारे द्वारा आप सभी को नीचे बताया गया है। यह जानकारी निम्न प्रकार है-

  • जेएसएस कॉलेज ऑफ फार्मेसी (JSS College of pharmacy)
  • एनआईएमएस कॉलेज (NIMS College)
  • गोवा कॉलेज ऑफ फार्मेसी (Goa college of pharmacy)
  • मणिपाल कॉलेज ऑफ़ फार्मास्यूटिकल साइंस (Manipur college of Pharmacuetical Science)
  • चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी (Chandigarh university)
  • एल एन कॉलेज ऑफ फार्मेसी (LN College of Pharmacy)
  • आंध्र यूनिवर्सिटी फार्मास्यूटिकल साइंस (Andhra university pharmacueticle science)
  • एआई – आमीन कॉलेज ऑफ फार्मेसी (AI-Ameen college of Pharmacy)
  • के आई ई कॉलेज ऑफ फार्मेसी (k i e College of pharmacy)
  • श्री रामचंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ हायर स्टडीज एंड रिसर्च (Shree ramchandra istitute of higher studies and research)

फार्मा डी क्षेत्र में करियर स्कोप? (Career scope in Pharm D?)

दोस्तों, आज के समय में फार्मा डी कोर्स बहुत ज्यादा डिमांड में है। जिस कारण लोग इस कोर्स को कर रहे हैं। परंतु इस कोर्स को करने से पहले आप सभी को यह जानकारी प्राप्त करनी होगी, कि फार्मा डी क्षेत्र में करियर स्कोप कितना है, तो हमारे द्वारा आप सभी को यहां Career scope in Pharma D? के बारे में बताया गया है। इस कोर्स को करके उम्मीदवारों को विदेशों में नौकरी के बहुत अच्छे अवसर प्राप्त होते हैं। परंतु आज के समय में हमारे देश में फार्मा डी कोर्स बहुत ही अधिक छात्रों के द्वारा किया जा रहा है। क्योंकि इस कोर्स की मांग दिन पर दिन बढ़ती जा रही है।

पूरे विश्व में भारत दवाई उत्पादन करने वाला सबसे बड़ा देश है। जिस कारण आपको यहां भी नौकरी के विभिन्न अवसर प्राप्त होते हैं। फार्मा डी कोर्स को करने के पश्चात उम्मीदवार हेल्थ सेक्टर में विभिन्न विभागों तथा विभिन्न पदों पर कार्यरत हो सकता है। इस कोर्स के द्वारा उम्मीदवार खुद की फार्मास्यूटिकल कंपनी तथा दवाइयों की दुकान भी खोल सकते है। परंतु अब भी बहुत से ऐसे अभ्यार्थी होंगे, जिन्हें इस बात की जानकारी प्राप्त करनी होगी, कि उम्मीदवारों को कौन-कौन से विभागों में फार्मा डी कोर्स करके नौकरी प्राप्त हो सकती है। तो हमारे द्वारा आप सभी को नीचे इन विभागों की जानकारी दी गई है, जो कि निम्न प्रकार है-

  • प्राइवेट हॉस्पिटल (Private hospital)
  • सरकारी हॉस्पिटल (Government hospital)
  • रिसर्च लैब (Research lab)
  • फार्मास्यूटिकल कंपनी (Pharmaceutical company)
  • मेडिकल टेस्टिंग लैब (medical testing lab)

फार्मा डी कोर्स करने के फायदे? (Benefits of doing a Pharm D Course?)

दोस्तों, आज के समय में कोई भी व्यक्ति वह कोर्स करता है, जिसने उसे फायदा मिलता है। इसलिए आपको फार्मा डी कोर्स के भी फायदे पता होने चाहिए। साथ ही साथ फार्मा डी कोर्स आज के समय में विभिन्न अभ्यार्थियों के लिए एक नया कोर्स होगा। जिसके बारे में सभी को जानना बेहद आवश्यक है। इसीलिए जो अभ्यार्थी इस कोर्स को करने की सोच रहे है, उन्हें सबसे पहले इस कोर्स के फायदे के बारे में पता होना चाहिए। यही कारण है कि हमारे द्वारा आप सभी को नीचे Benefits of doing a Pharm D Course? के बारे में बताया जा रहा हैं। जो कि निम्न प्रकार है-

  • फार्मा डी कोर्स करने के बाद उम्मीदवार भारत देश में विभिन्न प्रकार की नौकरी के अवसर प्राप्त कर सकता है क्योंकि हमारा भारत दवाइयों को उत्पादित करने वाला सबसे बड़ा देश है।
  • भारत के साथ-साथ विदेशों में उम्मीदवार विभिन्न प्रकार के विभागों में विभिन्न पदों पर इस कोर्स को करके कार्यरत हो सकते हैं।
  • इस क्षेत्र में अभ्यार्थियों को मेडिकल से संबंधित संपूर्ण जानकारी प्राप्त होती है।
  • इस कोर्स के अंतर्गत उम्मीदवारों को प्रैक्टिकल ही नॉलेज भी दी जाती है।
  • इस कोर्स को करने के बाद उम्मीदवारों को इस क्षेत्र में रिसर्च करने का भी मौका प्राप्त होता है।
  • इस क्षेत्र के अंतर्गत अभ्यार्थियों को दवाइयों से संबंधित अधिक जानकारी प्राप्त होती है।
  • फार्मा डी कोर्स करने के बाद अभ्यार्थियों को एक अच्छा वेतन प्राप्त होता है।
  • इस कोर्स को करके उम्मीदवार के द्वारा खुद की फार्मास्यूटिकल कंपनी खोली जा सकती है।
  • साथ ही साथ वह किसी और फार्मास्यूटिकल कंपनी में एक अच्छे पद पर कार्य करने में भी सक्षम होता है।
  • उम्मीदवार अपनी खुद की मेडिकल शॉप खोल सकते हैं।
  • इसके अलावा भी फार्मा डी कोर्स करने के बाद उम्मीदवार को विभिन्न प्रकार के फायदे प्राप्त होते हैं।
  • हमारे द्वारा आप सभी को ऊपर लेख में फार्मा डी कोर्स के फायदे के बारे में बता दिया गया है। यदि आप यह कोर्स करते हैं, तो आपको यह सारे फायदे प्राप्त होंगे।

फार्मा डी कोर्स करने के बाद कार्य? (Work after doing a Pharm D Course?)

दोस्तों आप चाहे कोई भी कोर्स कर ले। आपको हर क्षेत्र में कार्य करना होगा। परंतु यदि आप जानना चाहते हैं कि फार्मा डी कोर्स करके उन्हें क्या कार्य करना है। तो हम आपको बता दें, यह एक मेडिकल सेक्टर है। जिसमें आपको मेडिकल से संबंधित ही कार्य करने होंगें। परंतु फिर भी अभ्यार्थी विस्तारपूर्वक इसकी जानकारी प्राप्त करने के इच्छुक होते हैं इसीलिए हमारे द्वारा आप सभी को नीचे पॉइंट के माध्यम से Work after doing a Pharm D Course? के बारे में बताया गया है। फार्मा डी कोर्स करने के बाद के संपूर्ण कार्य की जानकारी निम्न प्रकार है-

  • एक फार्मा डी व्यक्ति के द्वारा विभिन्न प्रकार के जरूरी कार्य किए जाते हैं
  • एक फार्मा डी व्यक्ति के द्वारा विभिन्न प्रकार के जरूरी कार्य किए जाते हैं।
  • फार्मा डी कोर्स करके उम्मीदवार दुनिया भर के किसी भी कॉलेज और विश्वविद्यालय में शोधकर्ता शिक्षक और व्याख्याता आदि के रूप में कार्यरत हो सकता है।
  • इस कोर्स को करने के बाद उम्मीदवार केवल फार्मास्यूटिकल कंपनी में ही नहीं, बल्कि बायोटेक कंपनियों में भी नौकरी कर सकते हैं।
  • फार्मा डी व्यक्ति के द्वारा उस पद पर ही कार्य किया जाता है, जिस पद पर वह नौकरी प्राप्त करता है।
  • यदि उम्मीदवार के द्वारा अपनी खुद की फार्मास्यूटिकल कंपनी खोली जाती है, तो उसे बहुत ही ध्यानपूर्वक अपनी कंपनी को चलाने हेतु संचालन का कार्य करना होता है।
  • फार्मा डी व्यक्ति के द्वारा मेडिकल दवाइयों से संबंधित कार्य किए जाते हैं।
  • उम्मीदवार इस कोर्स को करके फार्मेसी के क्षेत्र में मेडिकल और स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं हेतु दवाइयां बनाने का कार्य करता है।
  • ऊपर दिए गए संपूर्ण कार्य आप तभी करते हैं, जब आप फार्मा डी कोर्स कर लेते हैं।

फार्मा डी में सैलरी? (Salary in a Pharm D?)

हर छात्र एक अच्छे भविष्य के लिए पढ़ाई करता है। साथ ही किसी भी कोर्स को करने से पहले यह उम्मीद करता है, कि उसे इस क्षेत्र में अच्छी सैलरी प्राप्त होगी। हम यहां आपको Salary in a Pharm D? के बारे में बता रहे हैं। यदि आप फार्म डी कोर्स करके भारत में नौकरी करते हैं, तो आपको शुरुआत में औसतन ₹30 हज़ार रुपए से लेकर ₹40 हज़ार रुपए प्रति महीना वेतन मिलता है। साथ ही जैसे जैसे आपका इस क्षेत्र में अनुभव बढ़ता जाता है। आपकी सैलरी भी बढ़ा दी जाती है। जो ₹50 हज़ार रुपए से लेकर ₹60 हज़ार रुपए प्रति माह हो जाती है।

परंतु यदि आप फार्मा डी कॉलेज करके किसी विदेश में नौकरी करते हैं। तो आपको भारत की तुलना में वहां ज्यादा सैलरी मिलती है, जो कि शुरुआत में ₹60 हज़ार रुपए से लेकर ₹80 हज़ार रुपए प्रति महीना हो सकती है। विदेश में आपको इस कोर्स को करने के बाद विभिन्न प्रकार के नौकरी के अवसर प्राप्त होते हैं। यदि आप इस कोर्स को करके अपना खुद का कार्य करना चाहते हैं, तो आप कोई भी फार्मास्यूटिकल कंपनी या फिर दवाइयों की दुकान खोल सकते हैं। जिससे आगे चलकर आप लाखों में पैसे कमा सकते हैं।

फार्मा डी कोर्स क्या होता है कैसे करें? इससे संबंधित प्रश्न व उत्तर (FAQs)

Q:- 1. फार्मा डी कोर्स क्या होता है?

Ans:- 1. फार्मा डी एक प्रकार का प्रोफेशनल कोर्स होता है। यदि कोई अभ्यार्थी इस कोर्स को पड़ता है, तो उसके नाम के आगे डॉक्टर लगा दिया जाता है। इस कोर्स के अंदर अभ्यार्थियों को मेडिकल दवाइयों से संबंधित जानकारी दी जाती है। 

Q:- 2. फार्मा डी की फुल फॉर्म क्या होती है?

Ans:- 2. दोसतों, फार्मा डी की फुल फॉर्म डॉक्टर ऑफ़ फार्मेसी होती है। जो व्यक्ति फार्मेसी के क्षेत्र में अपना भविष्य बनाता है। वह फार्मा डी कोर्स करता है। इस क्षेत्र में मेडिकल और स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं हेतु दवाइयां बनाई जाती है। 

Q:- 3. फार्मा डी कोर्स कैसे करें?

Ans:- 3. फार्मा डी कोर्स करने के लिए व्यक्तियों को 12वीं कक्षा 50% अंकों के साथ पीसीबी यानी फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी विषय से पास करनी होगी। इसके तत्पश्चात उन्हें बी फार्मा करना होगा। इसके बाद वह फार्मा डी कोर्स के लिए किसी कॉलेज में एडमिशन प्राप्त कर सकते हैं। 

Q:- 4. फार्मा डी कोर्स की फीस कितनी होती है?

Ans:- 4. फार्मा डी कोर्स पहले हमारे भारत में नहीं था। इसकी बढ़ती डिमांड को देखते हुए भारत ने इस कोर्स को शुरू कर दिया गया है। शुरुआत में अभी इस कोर्स की फीस बहुत अधिक है, परंतु सरकारी कॉलेजों में उम्मीदवारों को प्राइवेट कॉलेज की तुलना में बहुत कम फीस देनी होती है। 

Q:- 5. फार्मा डी कोर्स को करने के लिए एक अच्छे कॉलेज में दाखिला कैसे लें?

Ans:- 5. फार्मा डी कोर्स को करने के लिए उम्मीदवार एक अच्छे कॉलेज में ही दाखिला लेता है। परंतु किसी अच्छे कॉलेज में दाखिला लेने के लिए उम्मीदवार को नीट प्रवेश परीक्षा से होकर गुजरना पड़ता है। इस परीक्षा के अंकों के आधार पर ही उन्हें कॉलेज में दाखिला मिलता है। 

Q:- 6. फार्मा डी कोर्स करने के बाद कितना वेतन मिलता है?

Ans:- 6. भारत में फार्मा डी कोर्स करने के बाद नौकरी करने पर उम्मीदवार को शुरुआत में औसतन ₹30 हज़ार रुपए से लेकर ₹50 हज़ार रुपए तक प्रति महीना सैलरी प्राप्त होती है। परंतु विदेशों में ₹50 हज़ार रुपए से लेकर ₹80 हज़ार रुपए शुरुआत में वेतन मिलता है। 

Q:- 7. फार्मेसी क्षेत्र में कौन-कौन से कार्य किए जाते हैं?

Ans:- 7. फार्मेसी क्षेत्र में विभिन्न प्रकार के कार्य किए जाते हैं। यदि आपको इस जानकारी का पता लगाना है, तो हमारे द्वारा ऊपर लेख में आपको Work in Pharm D? के बारे में विस्तार पूर्वक बताया गया है।

1 thought on “Pharma D Course Kya H, फार्मा डी कोर्स क्या है कैसे करें? योग्यता, कार्य और सैलरी #Storiesviewforall”

Leave a Comment