जीवन परिचय: महेंद्र सिंह धोनी जीवन परिचय, रिकार्ड्स |Mahendra Singh Dhoni Biography In Hindi

महेंद्र सिंह धोनी का जीवन परिचय (रिकार्ड्स,विवाह दिनांक, आयु, बायोग्राफी, ऊंचाई, आयु, फिल्म, वर्तमान टीम, पुरुस्कार) (Mahendra Singh Dhoni (MS Dhoni) Biography in hindi, Personal Life, Affairs, Records, Controversy, Awards, Achievement, Age, Height, caste, net worth, family, wife)

महेंद्र सिंह धोनी का जीवन परिचय (Mahendra Singh Dhoni Biography)

जीवन परिचय: महेंद्र सिंह धोनी जीवन परिचय, रिकार्ड्स |Mahendra Singh Dhoni Biography In Hindi

पूरा नाम (Real Name) महेन्द्र सिंह धोनी
उप नाम (Nickname) माहीएमएसएमएसडीकैप्टन कूल
जन्म स्थान (Birth place) रांचीबिहारभारत
जन्म तारीख (Date of Birth) जुलाई 1981
जाति (Caste) हिन्दू
 शैक्षिक योग्यता (Educational Qualification) 12 वीं कक्षा पास
कहां से हासिल की शिक्षा रांची
पिता का नाम (Father) पान सिंह
माता का नाम (Mother) देवकी देवी
कुल भाई बहन (Sibling) दो[एक भाई और एक बहन]
बहन जयंती गुप्ता
भाई नरेंद्र सिंह
पत्नी का नाम (Wife/ Spouse) साक्षी सिंह रावत
कुल बच्चे (Children) एक, जीवा (लड़की)
पेशा (Profession) क्रिकेटर और भारत के पूर्व कप्तान
भारत क्रिकेट टीम में इनकी भूमिका (Role) विकेटकीपर और बल्लेबाज
बल्लेबाजी शैली (Batting Style) दाहिने हाथ के बल्लेबाज
बॉलिंग शैली (Bowling Style) दाहिने हाथ के मध्यम गेंदबाज
पहला टेस्ट मैच (Test debut) 2 दिसंबर, 2005 बनाम श्रीलंका टीम
पहला ओडीआई (ODI debut) 23 दिसंबर 2004 बनाम बांग्लादेश टीम
पहला टी 20 (T 20 debut)  1 दिसंबर 2006, बनाम दक्षिण अफ्रीका टीम
आईपीएल की टीम (IPL) चेन्नई सुपर किंग्स
लंबाई (Height) फीट इंच
बालों का रंग (Hair Colour) काला और सफेंद
आंखो का रंग (Eye Color) गहरा भूरा
वजन (Weight) 70 किलो
वेबसाइट (Website) जानकारी नहीं
कुल संपत्ति (Net Worth) करीब 700 करोड़
पत्नी का नाम साक्षी
बेटी का नाम जीवा
महेंद्र सिंह धोनी का जन्म और शिक्षा (Mahendra Singh Dhoni Brith And Education)
सन् 1981 में भारत के झारखंड राज्य में जन्में धोनी ने इसी राज्य के डीएवी जवाहर विद्या मंदिर स्कूल से अपनी शुरुआती शिक्षा हासिल की है. अपनी 12 वीं कक्षा की पढ़ाई करने के बाद इन्होंने सेट.ज़ेवियर कॉलेज में दाखिला लिया था. लेकिन क्रिकेट के लिए धोनी को अपनी पढ़ाई के साथ समझौता करना पड़ा और इन्होंने अपनी पढ़ाई को बीच में ही छोड़ दिया.

महेंद्र सिंह धोनी का परिवार (Mahendra Singh Dhoni Family)

  • धोनी के पिता पान सिंह मेकॉन (MECON) कंपनी में कार्य किया करते थे और इनकी माता का नाम देवकी देवी है. इनके परिवार का नाता उत्तराखंड राज्य से है. लेकिन इनके पिता अपने कार्य के चलते झारखंड राज्य आकर रहने लग गए थे. जिसके बाद से ये इसी राज्य के निवासी हो गए.
  • धोनी के परिवार में इनके मां और पिता के अलावा इनकी बहन, भाई, पत्नी और एक बेटी भी है. इनकी बड़ी बहन एक अध्यापिका हैं और बड़े भाई एक राजनेता हैं.

महेंद्र सिंह धोनी की लव लाइफ (Mahendra Singh Dhoni Love Life)

प्रियंका झा और धोनी की लव स्टोरी (Priyanka Jha and Dhoni’s Love Story)

धोनी की जिंदगी में प्रियंका झा नामक एक लड़की हुआ करती थी, जो कि धोनी की गर्लफ्रेंड थी. लेकिन साल 2002 में प्रियंका की मृत्यु हो गई थी. जिसके कारण धोनी की ये लव स्टोरी अधूरी रह गई थी. धोनी की जिंदगी के इस हिस्से के बारे में लोगों को उनके जीवन पर बनी फिल्म के जरिए पता चला.

धोनी और साक्षी की लव स्टोरी (Dhoni And Sakshi Love’s love story)

धोनी ने 4 जुलाई2010 को साक्षी से विवाह किया, यह एक लव मैरिज थी. कहा जाता है कि ये दोनों एक ही स्कूल में पढ़ा करते थे. लेकिन जब साक्षी छोटी थी, तभी इनके पिता देहरादून शिफ्ट हो गए थे, जिसके कारण साक्षी को अपना स्कूल बीच में ही छोड़ना पड़ा .

साल 2007 में फिर हुई साक्षी से मुलाकात

  • साक्षी के देहरादून शिफ्ट हो जाने के बाद, धोनी और साक्षी लंबे अरसे तक एक दूसरे से नहीं मिल पाए थे. लेकिन साल 2007 में इन दोनों की फिर से मुलाकात हुई और ये मुलाकात कोलकाता में हुई थी.
  • दरअसल टीम इंडिया कोलकाता के जिस होटल में रुकी हुई थी. उसी होटल में साक्षी बतौर एक इंटर्न कार्य कर रही थी और इसी दौरान ये दोनों काफी समय के बाद एक दूसरे से मिले थे. इस मुलाकात के बाद इन दोनों ने एक दूसरे को लंबे समय तक मिलते रहे और लगभग तीन साल बाद इन दोनों ने शादी कर ली. इन दोनों की एक बेटी भी हैं और उसका नाम इन्होंने जीवा रखा.

महेंद्र सिंह धोनी की क्रिकेट करियर (Mahendra Singh Dhoni’s cricket career)

घरेलू क्रिकेट करियर (Mahendra Singh Dhoni domestic cricket career)

पहला रणजी मैच :

इन्हे साल 1999 में पहली बार रणजी ट्रॉफी खेलने का मौका मिला था और यह पहला रणजी ट्रॉफी मैच बिहार राज्य की तरफ से असम क्रिकेट टीम के विरुद्ध खेला गया था. इस मैच की दूसरी पारी में धोनी ने नाबाद 68 रन बनाए थे, जबकि इस ट्रॉफी के इस सत्र में इन्होंने कुल 5 मैचों में 283 रन अपने नाम किए थे. इस ट्रॉफी के बाद धोनी ने अन्य और भी घरेलू मैच खेले थे.

धोनी के बेहतरीन प्रदर्शन के बावजूद भी इनका चयन ईस्ट जॉन सेलेक्टर द्वारा नहीं किया गया था. जिसके कारण धोनी ने खेल से दूरी बना ली और साल 2001 में कोलकाता राज्य में रेलवे विभाग में बतौर टिकट कलेक्टर के रूप में कार्य करना शुरू कर दिया. लेकिन धोनी का मन इस नौकरी में नहीं लगा और इन्होंने तीन साल के अंदर ही इस नौकरी को छोड़ दिया और फिर से अपने क्रिकेट करियर पर ध्यान देना शुरू कर दिया.

साल 2001 में धोनी का चयन दिलीप ट्रॉफी के लिए हो गया, लेकिन धोनी को उनके चयन की जानकारी सही समय पर मिल नहीं पाई. जिसके कारण धोनी इस ट्रॉफी में हिस्सा नहीं ले पाए.

साल 2003 में धोनी को जमशेदपुर में प्रतिभा संसाधन विकास विंग के हुए मैच में खेलते हुए बंगाल के पूर्व कप्तान प्रकाश पोद्दार ने देखा था. जिसके बाद उन्होंने धोनी के खेल की जानकारी राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी को दी. और इस तरह से धोनी का चयन बिहार अंडर-19 टीम में हो गया था.

धोनी ने साल 2003-2004 के देवधर ट्रॉफी के टूर्नामेंट में भी हिस्सा लिया था और धोनी पूर्वी जोन टीम का हिस्सा थे. देवधर ट्रॉफी का ये सीजन इनकी टीम द्वारा जीता गया था और धोनी ने इस सीजन में कुल 4 मैच खेले थे, जिनमें इन्होंने 244 रन बनाए थे.

साल 2004 में धोनी का चयन ‘इंडिया ए’ टीम में कर लिया गया था. ‘इंडिया ए’ टीम की ओर से धोनी ने अपना पहला मैच बतौर विकेट कीपर के तौर खेलते हुए. जिम्बाबे टीम के विरुद्ध काफी अच्छा प्रदर्शन किया था. तीन देशों के बीच (केन्या ए, भारत ए और पाकिस्तान ए) हुई श्रृंखला में भी धोनी ने दमदार प्रदर्शन किया और ‘पाकिस्तान ए’ टीम के विरुद्ध खेले गए मैच में अपने अर्ध शतक की मदद से धोनी ने भारतीय टीम को मैच जिताया.

धोनी का पहला वन डे मैच (Mahendra Singh Dhoni ODI Debut And Career)

  • धोनी को भारतीय टीम की ओर से पहला अंतर्राष्ट्रीय वन डे मैच (ओडीआई) खेलने का मौका साल 2004 में मिला था और इन्होंने अपना पहला ओडीआई मैच बंग्लादेश टीम के विरुद्ध खेला था.
  • अपने पहले अंतर्राष्ट्रीय मैच में वे कुछ खास ना कर सके और शून्य पर लौट गये. हालांकि धोनी के खराब प्रदर्शन के बावजूद भी इनका चयन पाकिस्तान के साथ खेले जाने वाले अगले ओडीआई मैच में कर लिया गया था.
  • पाकिस्तान के साथ खेले गए इस मैच में धोनी ने काफी अच्छा प्रदर्शन किया था. इस मैच में इन्होंने कुल 148 रन अपने नाम किए थे, जिसके साथ ही ये पहले ऐसे भारतीय विकेटकीपर-बल्लेबाज भी बन गए जिन्होंने इतने रन बनाए हों.

वन डे मैच में धोनी के प्रदर्शन की जानकारी (ODI Match Batting Career Records Summary)

धोनी द्वारा खेले गए वन डे मैच  318
कुल खेलीं गई इनिंग  272  
वन डे मैच में बनाए गए कुल रन  9967
वन डे मैच में लगाए गए कुल चौके  770  
वन डे मैच में लगाए गए छक्के  217
वन डे मैच में बनाए गए कुल शतक 10
वन डे मैच में बनाए गए कुल दोहरे शतक 0
वन डे मैच में बनाए गए कुल अर्ध शतक 67
महेंद्र सिंह धोनी का टेस्ट मैच करियर (Mahendra Singh Dhoni’s Test match career)
पहला टेस्ट मैच (First Test Match)
धोनी को भारतीय क्रिकेट टीम की ओर से फ़र्स्ट टेस्ट मैच खेलने का अवसर साल 2005 में मिला था और इन्होंने अपना प्रथम मैच श्रीलंका टीम के विरुद्ध खेला था. इस मैच की पहली इनिंग में धोनी ने कुल 30 रन अपने नाम किए थे. मगर बारिश के चलते ये मैच बीच में ही बंद करना पड़ा था.
साल 2006 में पाकिस्तान के विरुद्ध खेलते हुए इन्होने अपनी पहली टेस्ट सेंच्युरी लगाई थी और इसी के कारण ही इस टेस्ट मैच में भारत को फॉलो-ऑन से बचने में मदद मिली थी. 
आखिरी टेस्ट मैच (Last Test Match)
धोनी ने साल 2014 में अपना करियर का अंतिम टेस्ट मैच  ऑस्ट्रलिया टीम के विरुद्ध खेला था. अपने इस अंतिम टेस्ट मैच में इन्होंने  कुल 35 रन बनाए थे. ये मैच खत्म होने के बाद धोनी ने टेस्ट मैच से सन्यास लेने की जानकारी मीडिया के साथ साझा की थी और इस तरह से ये धोनी के जीवन का आखिर टेस्ट मैच बन गया था.

पहला टी- 20 मैच (First T 20 Match)

धोनी ने अपना पहला टी- 20 मैच दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेला था और अपने पहले टी 20 मैच में धोनी का प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहा था. क्योंकि इस मैच में धोनी ने केवल दो गेंदों का ही सामना किया था और शून्य पर आउट हो गए थे. हालांकि टीम इंडिया ने इस मैच को जीत लिया था.

महेंद्र सिंह धोनी बतौर कप्तान (Captaincy)

  • धोनी के कप्तान बनने से पहले भारतीय टीम की जिम्मेदारी राहुल द्रविड़ के पास थी और जब राहुल द्रविड़ ने अपने इस पद को छोड़ दिया था. तो उनकी जगह भारत का अगला कप्तान धोनी को चुना गया था.
  • कहा जाता है कि धोनी को भारतीय टीम की कप्तानी देने की बात राहुल द्रविड़ और सचिन ने बीसीसीआई (BCCI) से की थी. जिसके बाद बीसीआई ने धोनी को सन् 2007 में भारतीय टीम का कैप्टन बनाया था.
  • भारत के कप्तान बनने के बाद सितंबर 2007 में दक्षिण अफ्रीका में आयोजित हुए आईसीसी विश्व ट्वेंटी 20 में इन्होने भारतीय टीम को लीड किया था और इस टूर्नामेंट को जीत लिया था.
  • विश्व ट्वेंटी 20 कप जीतने के बाद धोनी को वन डे मैच और टेस्ट मैच की भी कप्तानी सौप दी गई थी और धोनी ने उनको दी गई इस जिम्मेदारी को खूब सही तरह से निभाया था.
  • धोनी की कप्तानी के तहत ही भारत साल 2009 में आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में प्रथम स्थान हासिल कर पाया था और धोनी ने कप्तान रहते हुए कई सारे रिकॉर्ड भी अपने नाम किए हैं. धोनी ने दो विश्व कप में भारत का नेतृत्व किया है और अपनी कप्तानी के तहत, भारत साल 2011 में विश्व कप जीता था. जबकि साल 2015 के हुए विश्व कप में भारत को सेमीफाइनल तक पहुंचाने में कामयाब हुआ था.

 

 

 

Leave a Comment