महंत बालकनाथ योगी का जीवन परिचय | Mahant Balaknath Yogi Biography in Hindi

महंत बालकनाथ योगी का जीवन परिचय | Mahant Balaknath Yogi Biography in Hindi

महंत बालकनाथ योगी एक भारतीय राजनीतिज्ञ तथा अलवर से भारतीय जनता पार्टी की सांसद है यह एक समाज सुधारक, वक्ता, सामाजिक कार्यकर्ता तथा आध्यात्मिक गुरु है। Mahant Balaknath Yogi “बाबा मस्तनाथ विश्वविद्यालय” के  चांसलर है तथा यह नाथ संप्रदाय के आठवें महंत है।

महंत बालकनाथ योगी ने मात्र 6 साल की उम्र में अपने घर परिवार को छोड़कर सन्यास के मार्ग को अपनाया, उसके बाद Mahant Balaknath Yogi ने अस्थल बोहर के मठाधीश के रूप में नाथ सम्प्रदाय के सबसे बड़े मठ का दायित्व आठवें मठाधीश के रूप में संभाला। 2019 में इन्होने अलवर से लोकसभा चुनाव लड़ा और जीत हासिल की।

Mahant Balaknath Yogi Biography in Hindi

पूरा नाम महंत बालकनाथ योगी
बचपन का नाम गुरुमुख
जन्म 16 अप्रैल 1984
उम्र 38 वर्ष
जन्म स्थान अलवर जिले के बहरोड़ तहसील के कोहराना गांव
व्यवसाय भारतीय राजनीतिज्ञ तथा आध्यात्मिक गुरु
धर्म सनातन हिन्दू

Mahant Balaknath Yogi Social Media Account

Social Media Name User ID
Instagram क्लिक करें
FaceBook क्लिक करें
Twitter क्लिक करें

Mahant Balaknath Yogi Birth, Place, Family

महंत बालक नाथ योगी का जन्म 16 अप्रैल 1984 को अलवर जिले के बहरोड़ तहसील के कोहराना गांव में हुआ। Mahant Balaknath Yogi का जन्म गुरुवार के दिन होने के कारण बाबा खेतानाथ में इनका नाम गुरुमुख रखा था।

इनके पिता जी का नाम सुभाष यादव तथा माता का नाम उर्मिला देवी है इनके परिवार में Mahant Balaknath Yogi के दो चाचा डॉक्टर हैं इनका परिवार खेती-बाड़ी से जुड़ा हुआ है उनके दादाजी का नाम फूलचंद यादव तथा दादी मां का नाम  संतरो देवी है।

वर्तमान समय में महंत बालकनाथ योगी नाथ संप्रदाय के अस्थल बोहर के आठवें मठाधीश है तथा अलवर राजस्थान से लोकसभा के सांसद भी हैं

पिता का नाम श्री सुभाष यादव
माता का नाम श्रीमती उर्मिला देवी

Mahant Balaknath Yogi Education, Qualification

महंत बालकनाथ योगी नीमराना की बाबा खेतानाथ आश्रम में ब्रह्मलीन पूज्य बाबा खेतानाथ की सेवा करते थे अपने पुत्र के मन में इस तरीके की जनकल्याण की भावनाएं कथा आस्था के चलते उनके परिवार वालों ने उन्हें खेता नाथ बाबा को अर्पित करने के लिए आश्रम में बोल दिया मात्र 6 साल की उम्र में गुरुमुख महंत बालकनाथ योगी को बाबा खेतानाथ को सौंप दिया ब्रह्मलीन मत सोमनाथ में महंत बालक नाथ योगी को शिक्षा दीक्षा दी तथा अलवर के पूर्व सांसद महंत चांद नाथ योगी के पास भेज दिया

रोहतक में चांदनाथ योगी ने गुरुमुख में बच्चों जैसी  चंचलता के कारण इन्हें बालकनाथ के नाम से पुकारना शुरू कर दिया।

Mahant Balaknath Yogi Career Journey

बालकनाथ योगी बचपन से ही बाबा खेतानाथ की सेवा करते थे इनकी सेवा भाव तथा जनकल्याण की भावना को देखते हुए Mahant Balaknath Yogi के परिवार वालों ने इन्हें संत बनाने के लिए तथा गुरुओं की सेवा करने के लिए बाबा खेतानाथ को अर्पित कर दिया था और मात्र 6 साल की उम्र में इन्होंने सन्यास धारण करके बाबा खेतानाथ की शरण में चले गए थे। उसके बाद  बाबा सोमनाथ ने शिक्षा दीक्षा दी तथा बाद में अस्थल बोहर रोहतक में महंत चांदनाथ योगी के पास भेज दिया, वहीं पर इनका नाम गुरु मुख से बालकनाथ हुआ। Mahant Balaknath Yogi के कठिन तपस्या, साधना करते हुए गुरुओं की सेवा की तथा नाथ संप्रदाय की परंपराओं को सीखते हुए गुरु के आदेश अनुसार कार्य भी करके देश के भिन्न-भिन्न स्थानों पर अपना दायित्व निभाया।

चाँदनाथ योगी के सानिध्य में 29 जुलाई 2016 में योगी आदित्यनाथ तथा योग गुरु बाबा रामदेव की उपस्थिति में इन्हें अस्थल बोहर का उत्तराधिकारी बनाया गया।

इसके बाद सितंबर 2017 में चांदनाथ योगी के ब्रह्मलीन होने पर Mahant Balaknath Yogi को यहाँ का मठाधीश बनाया गया और इन्होंने 2019 में लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी से चुनाव भी लड़कर जीत हासिल करके अलवर के सांसद बने।

वर्तमान समय में महंत बालक नाथ योगी आठवीं शताब्दी में स्थापित हरियाणा के रोहतक में 150 एकड़ भूमि में फैले हुए “बाबा मस्तनाथ मठ” के मठाधीश तथा “बाबा मस्तनाथ विश्वविद्यालय” के कुलाधिपति है तथा अलवर से लोकसभा के सांसद भी हैं।
महंत बालक नाथ योगी को राजस्थान का योगी आदित्यनाथ भी कहा जाता है समय-समय पर लोग इनको भारतीय जनता पार्टी से राजस्थान के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के तौर पर भी खड़ा करने की बात करते हैं Mahant Balaknath Yogi अपनी लोकसभा सीट में काफी ज्यादा सक्रिय रहते हैं तथा लोगों की समस्याओं को सुनते हैं वर्तमान समय में यह जन आक्रोश रैली के माध्यम से पूरे राजस्थान में यात्राएं कर रहे हैं।

यह भी देखिये

Randeep Hooda Biography, Age, Height, Weight, Family, Girlfriend, Wife

गुरु नानक जी की जीवनी जयंती 2023 | Guru Nanak Biography in hindi