डॉ. विकास दिव्यकीर्ति का जीवन परिचय | Dr. Vikas Divyakirti Biography in Hindi

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति का जीवन परिचय | Dr. Vikas Divyakirti Biography in Hindi

Dr. Vikas Divyakirti Biography in Hindi जानने वाले है, जिन्होंने IAS ऑफिसर की नौकरी छोड़कर एक शिक्षक के रूप में अपना जीवन बिताने का फैसला किया.आज सिविल सेवा की तैयारी के लिए डॉक्टर विकास दिव्यकीर्ति को सबसे बेहतरीन शिक्षक माना जाता है। ऐसा लोगों का कहना है कि अगर कोई Student विकास सर की बताई हुई बातों का निर्देशों पालन करता है तो कुछ  महीने के अंदर वह UPSC की परीक्षा पास करने में सफतला प्राप्त कर सकता है।

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति का जीवन परिचय | Dr. Vikas Divyakirti Biography in Hindi

Dr Vikas Divyakirti :- आज हम अपने इस महत्वपूर्ण लेख में डॉ विकास दिव्यकीर्ति के बारे में ही विस्तार पूर्वक से चर्चा करेंगे। दृष्टि IAS कोचिंग इंस्टीट्यूट के संस्थापक डॉ विकास दिकीव्यर्ति ने IAS ऑफिसर बनने के महज 1 साल बाद अपनी नौकरी से इस्तीफा दे दिया और IAS ऑफिसर की जगह शिक्षक बन गए. आज वो UPSC परीक्षा की तैयारी करने वाले छात्रों के लिए द्रोणाचार्य से कम नहीं हैं. छात्र देश की सबसे कठिन परीक्षा को पास करने के लिए लाखो स्टूडेंट सपना लेकर दिल्ली आते हैं

डॉ विकास दिव्यकीर्ति के विषय में जानकारी

नाम डॉ विकास दिव्याकृति 
जन्मस्थान हरियाणा
जन्मतिथि 26 दिसंबर 1973
उम्र 46 वर्ष
कार्य शिक्षक और लेखक
प्रचलित होने का कारण दृष्टि कोचिंग संस्था के शिक्षक
शिक्षा BA, MA, Mphill, PhD, LLB
पत्नी तरुण दिव्यकृति वर्मा
बच्चे शाश्वत दिव्यकीर्ति
कोचिंग संस्थान का दृष्टि कोचिंग सेंटर

डॉ विकास दिव्यकीर्ति

डॉ विकास दिव्यकीर्ति ये वो नाम है जिसके बारे में आज हर कोई जानना चाहता है. डॉ. विकास दिव्यकीर्ति भारत के माने जाने आईएएस कोचिंग के संस्थापक और एक लेखक हैं. डॉ विकास दिव्यकीर्ति का जन्म एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ है, डॉ विकास दिव्यकीर्ति का जन्म 26 दिसंबर 1973 हरियाणा में हुआ था। विकास दिव्यकीर्ति के माता-पिता हिंदी साहित्य के प्रोफ़ेसर थे. जिसकी वजह से शुरुआत से ही इनका लगाव भी हिंदी की तरफ रहा. डॉ विकास दिव्यकीर्ति ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से BA, हिंदी साहित्य में MA, M.Phil और PhD की है. इसके अलावा इन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय और भारतीय विद्या भवन से अंग्रेजी से हिंदी अनुवाद में पोस्ट ग्रेजुएट भी किया है.

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति का शुरूआती करियर

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति मात्र 17 साल की उम्र में सेल्समैन का काम करना शुरू कर दिया था. अपने बड़े भाई के साथ घर घर जाकर कैलकुलेटर बेचा करते थे.सेल्समैन का काम करने के दौरान ही यूनिवर्सिटी में डिबेट प्रतियोगिता से पैसे कमाना शुरू किया. साल भर में 30 से 40 डिबेट को जीतकर अच्छा पैसा कमा लेते थे. तब इन्होने सेल्समैन की जॉब छोड़ दी.इसके बाद एक प्रिटिंग की कंपनी में काम करना शुरू किया. वहा से प्रिंटिंग के बारे में पूरी जानकारी लेने के बाद अपने बड़े भाई के साथ मिलकर प्रिटिंग का बिजनेस चालू किया.इसके बाद इन्होने कई इंस्टिट्यूट और कॉलेज में पढ़ाया और साल 1999 में दृष्टि आईएएस कोचिंग की शुरुआत की.

डॉ विकास दिव्यकीर्ति

डॉ विकास दिव्यकीर्ति ये वो नाम है जिसके बारे में आज हर कोई जानना चाहता है. डॉ. विकास दिव्यकीर्ति भारत के माने जाने आईएएस कोचिंग के संस्थापक और एक लेखक हैं. डॉ विकास दिव्यकीर्ति का जन्म एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ है, डॉ विकास दिव्यकीर्ति का जन्म 26 दिसंबर 1973 हरियाणा में हुआ था। विकास दिव्यकीर्ति के माता-पिता हिंदी साहित्य के प्रोफ़ेसर थे. जिसकी वजह से शुरुआत से ही इनका लगाव भी हिंदी की तरफ रहा. डॉ विकास दिव्यकीर्ति ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से BA, हिंदी साहित्य में MA, M.Phil और PhD की है. इसके अलावा इन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय और भारतीय विद्या भवन से अंग्रेजी से हिंदी अनुवाद में पोस्ट ग्रेजुएट भी किया है.

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति का शुरूआती करियर

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति मात्र 17 साल की उम्र में सेल्समैन का काम करना शुरू कर दिया था. अपने बड़े भाई के साथ घर घर जाकर कैलकुलेटर बेचा करते थे.सेल्समैन का काम करने के दौरान ही यूनिवर्सिटी में डिबेट प्रतियोगिता से पैसे कमाना शुरू किया. साल भर में 30 से 40 डिबेट को जीतकर अच्छा पैसा कमा लेते थे. तब इन्होने सेल्समैन की जॉब छोड़ दी.इसके बाद एक प्रिटिंग की कंपनी में काम करना शुरू किया. वहा से प्रिंटिंग के बारे में पूरी जानकारी लेने के बाद अपने बड़े भाई के साथ मिलकर प्रिटिंग का बिजनेस चालू किया.इसके बाद इन्होने कई इंस्टिट्यूट और कॉलेज में पढ़ाया और साल 1999 में दृष्टि आईएएस कोचिंग की शुरुआत की.

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति की पारिवारिक संबंध

डॉ विकास दिव्यकीर्ति का शादी 1997 मे डॉ तरुणा वर्मा के साथ हुई। उनके शादी के 25 साल पूरे हो गए हैं। उनका एक बेटा है, जिनका नाम सात्विक दिव्यकीर्ति है। डॉ विकास दिव्यकीर्ति का बेटा सात्विक दिव्यकीर्ति 10वीं मे अध्ययन कर रहे हैं। उन्हें शेर और शायरी में काफी रूचि है। डॉ विकास दिव्यकीर्ति की पत्नी (विकास दिव्यकीर्ति wife) डॉ तरुणा वर्मा वर्तमान में दृष्टि कोचिंग संस्थान की मैनेजिंग डायरेक्टर है।

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति तीन भाई हैं और इनके माता-पिता भी स्कूलों में टीचर रह चुके हैं। इनके पिता हरियाणा के रोहतक में स्थित महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय रोहतक एफिलिएटिड कॉलेज में हिंदी के प्रोफेसर रहे हैं और इनकी माता हरियाणा के ही इंटर लेवल के स्कूल की लेक्चरर रह चुकी है।

डॉ विकास दिव्यकीर्ति सर की उपलब्धियां

डॉ विकास दिव्यकीर्ति एक बहुत ही लोकप्रिय प्रशिक्षक है। शिक्षा के क्षेत्र में उनके बहुत बड़ा नाम है। वर्तमान समय में भारतीय सिविल सेवा के तैयारी में जुटे सभी छात्र-छात्रा उनको परम गुरु द्रोणाचार्य मानते हैं। डॉ विकास दिव्यकीर्ति का महत्वपूर्ण उपलब्धियां इस प्रकार है।

  • 24 साल की उम्र में कोचिंग की शुरुआत करने वाले विकास सर आज के समय में IAS की तैयारी कराने वाले में सबसे ज्यादा प्रसिद्ध शिक्षक हैं।
  • डॉ विकास दिव्यकीर्ति एक बेहतरीन व्यक्तित्व वाले शिक्षक तथा लेखक है।
  • इसके अलावा विकास दिव्यकीर्ति BA, MA, MPhil, LLB, PhD जैसी विभिन्न प्रकार की डिग्रियों को हासिल किया है।
  • हिंदी माध्यम से साहित्य में ग्रेजुएशन, पोस्ट ग्रेजुएशन तथा पीएचडी (PHD ) की डिग्री प्राप्त कर चुके है।
  • इसके साथ साथ इन्होने समाजशात्र विषय में नेट (NET) की परीक्षा पास की।
  •  UGC की परीक्षा पास करके JRF लिस्ट में नाम दर्ज करवा चुके है।
  •  भारतीय लोक सेवा आयोग की परीक्षा पास करके 1996 में IAS के पद पर नियुक्त हो चुके है।
  •  भारत की सबसे कठिन माने जाने वाली यूपीएससी की सीएसई परीक्षा को विकास सर ने दो बार पास किया है।
  •  डॉ विकास दिव्यकीर्ति का एक यूट्यूब चैनल भी है जिसपर वर्तमान समय में 7 मिलियन से ज्यादा सब्सक्राइब हैं।
  •  डॉ विकास दिव्यकीर्ति सर के पास 5 से अधिक डिग्री मौजूद है।
  •  डॉ विकास दिव्यकीर्ति का दृष्टि कोचिंग संस्थान भारत के 5 टॉप IAS कोचिंग सस्थानो में से एक है।
  • विकास दिव्यकीर्ति आईएएस दृष्टि आईएएस संस्थान के फाउंडर हैं।

दृष्टि कोचिंग संस्थान

डॉ विकास दिव्यकीर्ति 1996 भारतीय सिविल सेवा की परीक्षा में पास करके आईएएस(IAS) के पद पर नियुक्त हुए। लेकिन उनका मन सिविल सर्विस से अधिक पढ़ाने में था, जिस वजह से उन्होंने कुछ ही महीनों के अंदर आईएएस के पद से इस्तीफा दे दिया और उन्होंने यह निश्चय किया कि वे अब बच्चों को पढ़ाएंगे। इसके लिए उन्होंने एक छोटी सी कोचिंग संस्थान शुरुआत की जिसमें वे विद्यार्थियों को भारतीय सिविल सेवा की परीक्षा पास करने के लिए तैयारी करवाते थे। डॉ विकास दिव्यकीर्ति के पढ़ाने के अनोखे अंदाज़ के कारण विद्यार्थीयों का उनके प्रति आकर्षण बढ़ने लगा और धीरे-धीरे करके उनके कोचिंग संस्थान में पढ़ने वालों की संख्या बहुत अधिक हो गई। इतने अधिक विद्यार्थियों को संभालने के लिए विकास सर ने दृष्टि कोचिंग संस्थान के नाम से एक IAS कोचिंग संस्थान आरंभ किया। शुरुआत में थोड़ी मुश्किल अवश्य हुई लेकिन जब 2017 में उन्होंने अपने कोचिंग की वीडियो यूट्यूब पर डालना शुरू किया तो उन्हें देखकर विद्यार्थियों के मन में आईएएस (IAS) जैसी परीक्षा के लिए आकर्षण बढ़ने लगा। इसी वजह से में पढ़ने वाले विद्यार्थीयो की संख्या बढ़ने लगी।

दृष्टि द विजन संस्थान

कोचिंग संस्थान का नाम — दृष्टि कोचिंग सेंटर , कोचिंग के संस्थापक — डॉक्टर विकास दिव्यकीर्ति
संस्थान स्थापित  — 1999
ऑफिशियल वेबसाइट —    www.drishtiias.com
संस्थान पता (Adress) – –  www.drishtiias.com/eng/classroom-program/delhi-coaching-centre  Address:-    Office Address. Drishti The Vision Foundation 641, 1st Floor, Dr. Mukherjee Nagar, Opp Signature View Apartment, New Delhi – 110009

2017 में शुरू किया यूट्यूब चैनल

डॉ विकास दिव्यकीर्ति का यूट्यूब पर दृष्टि आईएएस के नाम से यूट्यूब चैनल है, जिसके लगभग 90 लाख सब्सक्राइबर्स हैं. इंस्टाग्राम पर उनके 10 लाख से ज्यादा फॉलोअर्स हैं. डॉ. विकास दिव्यकीर्ति दृष्टि आईएएस कोचिंग इंस्टीट्यूट के मालिक है.

Conclusion

इस पोस्ट में हमने आपके साथ डॉ. विकास दिव्यकीर्ति का जीवन परिचय | Dr. Vikas Divyakirti Biography in Hindi शेयर किये हैं । हम आशा करते हैं की  है हमने यहा जितने भी जानकारी दिये है वो आपको पसंद आये होंगे और आपके लिए उपयोगी साबित होंगी अगर आपका इस आर्टिकल को लेकर कोई सवाल है तो आप हमें नीचे कमेंट में पुछ सकते है।

Leave a Comment